समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका
-------------------------


Sunday, September 11, 2016

सेवाओं की आवश्यकतानुसार विषयों के स्नातक नियुक्त किये जायें (Reservation in Acording Subject and Graduate)

               कभी कभी अंतर्जाल पर ऐसे प्रश्न सामने आ जाते हैं जिनके उत्तर हमारे चिंत्तन से भरपूर मस्तिष्क में सदैव मौजूद रहते हैं। वैसे अगर एक दो पंक्ति में चाहें तो उसका उत्तर संबंधित की दीवार पर ही लिख दें पर भाषा की विशेषज्ञता के अभाव में नहीं लिखते। फिर जो ऐसे प्रश्न उठाते हैं उन्हें सीधे उत्तर देने में यह संकोच होता है कि वह हमारी उपाधि या योग्यता पता करने लगें जो भारतीय अध्यात्मिक दर्शन के अध्ययन से अधिक नहीं है। एक तरह से उसके छात्र हैं न कि शिक्षक।
          बहरहाल फेसबुक में ढेर सारे अनुयायियों से जुड़े उन विद्वान ने एक विश्वविद्यालय के चुनाव में विज्ञान संकाय के छात्रों के अन्य संकायों से आधार पर मतदान करने पर यह सवाल उठाया था कि ‘विज्ञान के संकाय के अन्य छात्रों से अलग क्यों सोचते हैं?’
           इस प्रश्न पर सीधे तो नहीं पर अलग से हमारी एक सोच रही है। पुस्तकें मनुष्य की मित्र हैं और जैसे मित्र की संगत होती है उसके गुण उसमें आ ही जाते हैं।  विज्ञान व गणित के सूत्र छात्र के दिमाग में उलझन के बाद सुलझन की प्रक्रिया का दौर चलाते हैं जिससे उसकी बुद्धि में आक्रामकता या उष्णता आती है। एक तरह से बुद्धि तीक्ष्ण हो जाती है। कला, वाणिज्य तथा विधि के अध्ययन करने वालों में वह उष्णता नहीं आती पर शीतलता के कारण उनकी चिंत्तन क्षमता अधिक बढ़ती है।  सीधी बात कहें तो यह कि विज्ञान तथा गणित का अध्ययन मस्तिष्क को तीक्ष्ण करता है जिससे किसी अन्य विषय पर ज्यादा देर तक पाठक सोच नहीं सकता और जबकि अन्य विषय के अध्ययन करने वाला सहजता के कारण ठहराव से चिंत्तन करने का आदी हो जाता है।  यह अलग बात है कि अध्ययन करने के बाद अभिव्यक्त होने की शैली एक बहुत बड़ा महत्व रखती है। वह सभी में समान नहीं होती-किसी में तो होती भी नहीं है। उसका पुस्तकों के अध्ययन से कोई संबंध नहीं है। 
                अंग्रेज दुनियां के सबसे अहकारी लोग माने जाते हैं और उनकी शिक्षा प्रणाली अपनाने के कारण हमारे यहां भी यही स्थिति है। गणित तथा विज्ञान के छात्र जीवन से संबंधित अन्य विषयों में जानते नहीं है और अन्य विषयों के स्नातक अपने अलावा किसी के तर्क को  मानते नहीं है। यही कारण है कि आधुनिक शिक्षा साक्षरता के साथ ही सामाजिक अंतर्द्वंद्वों को भी बढ़ा ही रही है।
           आखिरी बात यह है कि हमारा यह भी मानना है कि सरकारी सेवाओं में विषयों के आधार पर लोगों को नियुक्त करना चाहिये। बैंक तथा लेखा सेवाओं में वाणिज्य स्नातक तो प्रबंध में विशेषज्ञता की उपाधि लेने वालों को प्रशासनिक सेवाओं में रखना चाहिये। गणित व विज्ञान के विशेषज्ञों को केवल तकनीकी सेवाओं में रखना चाहिये। उनमें मानवीय संवेनाओं की बजाय नवनिर्माण की क्षमता अधिक होती है जिसकी प्रशासनिक सेवाओं में अधिक आवश्यकता नहीं होती। प्रशासनिक सेवाओं में वाणिज्य स्नातक भी चल सकते हैं क्योंकि प्रबंध उनका विषय होता हैं। कला के स्नातकों का उन सेवाओं में करना चाहिये जहां मानवीय संवेदनाओं की अधिक आवश्यकता होती है। उन विद्वान प्रश्नकर्ता की दीवार पर अपना इतना बड़ा उत्तर रख नहीं सकते थे सो यहां चैंप दिया।
--------------
-दीपक ‘भारतदीप’

No comments:

Post a Comment

अध्यात्मिक पत्रिकाएं

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips