समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका
-------------------------


Tuesday, September 27, 2016

योगी संयम से शत्रू का छिद्रान्वेषण कर उसे हराते हैं-संदर्भःभारत पाकिस्तान संबंध (Yogi Sanyam se shatru ka Chhidranveshan ka use harate hain-India Pakistan Relation)


                      पाकिस्तानी भले ही परमाणु बम लेकर बरसों से भारतीय हमले से बेफिक्र हैं यह सोचकर कि हम एक दो तो भारत पर पटक ही लेंगे तब वह डर जायेगा। अब उन्हें हमारी प्यार भरी सलाह  है कि भारत के प्रधानमंत्री मोदी से उनको डरना ही चाहिये क्योंकि वह योगाभ्यासी हैं।  एक सामान्य व्यक्ति तथा  योग साधक में अंतर होता ही है।  अपनी बात पूरी करने से पहले उनको बता दें कि उन्हें योग के आसन और प्राणायाम के विषय ही सुने हैं-वह भी टीवी चैनल देखकर-जबकि धारणा, ध्यान और समाधि भी उसका ऐसा हिस्सा है जिसे पाकिस्तानी क्या समझेंगे अभी तक भारत कुछ ही योग अभ्यासी हिन्दू समझ पाये हैं।
                          उरी की घटना के बाद तत्काल पाकिस्तान पर हमला करने की मांग उठी थी पर कुछ लोगों ने माना कि ऐसा करना गलती होगी।  अभी तक एक भी कदम नहीं उठाया गया है। हम मान लेते कि सब कुछ पहले की तरह ही सामान्य हो जायेगा पर प्रधानमंत्री मोदी की गतिविधियों को टीवी पर देखकर पता लगता है कि वह हर छोटी बड़ी चीज पर स्वयं विचार कर रहे हैं।  पतंजलि योग में संयम की चर्चा हैं जिसे हम धारणा व  ध्यान का मिश्रित पर्याय भी कह सकते हैं।  योगसिद्धांतों  के अनुसार किसी विषय, व्यक्ति या वस्तु पर संयम करने से उसके बारे में संपूर्ण चित्र अंतर्मन में आने लगता है।  इतना ही नहीं न लिखी गयी, न सुनी गयी और न देखी गयी सामग्री सामने आती दिखती है।  मोदी जी हर विषय पर दृष्टिपात करने के साथ ही पाकिस्तान की हरकतों पर संयम कर रहे होंगे-यानि पहले उससे संबंधित विषय को चित्त की धारणा में लाते होंगे फिर उस पर ध्यान लगाते होंगे। ध्यान के बाद उनकी जब समाधि लगती होगी तो जरूर कुछ निष्कर्ष सामने होते होंगे।  आज नहीं तो कल नहीं तो परसों समाधि में मोदी जी पाकिस्तान का वह छेद देख ही लेंगे जो आज तक कोई नहीं देख पाया है।  एक बात तय रही कि हमारी दृष्टि से पाकिस्तान अब एतिहासिक दुष्परिणाम की तरफ बढ़ रहा है क्योंकि उसने अभी तक किसी ऐसे प्रधानमंत्री का सामना नहीं किया होगा जो विश्वभर के नेताओं को व्यक्तिगत रूप से प्रभावित कर रहा हे।
                     पाकिस्तान के कला, साहित्य, अर्थ तथा राजनीति के शिखर पुरुष भारत के विरोधी न भी हों तब भी वह हिन्दू संस्कृति का नाम नहीं सुनना चाहते। उन्हें अरेबिक संस्कृति पूरी तरह से प्रिय है। मगर हम  देश के दक्षिणपंथियों विचारकों को बता दें कि कुछ ऐसा जरूर होगा जो पाकिस्तान की धारा बदल देगा।  हम जैसे लोग इसके लिये एक दो महीने नहीं ढाई साल तक इंतजार कर सकते हैं। योगी अपने संयम से शत्रु के छेद ढूंढकर उसे परास्त करना जानते हैं।
                 नोट-यह लेख अरेबिक विचाराधारा के पोषक पाकिस्तानियों की समझ में नहीं आयेगा अतः उन्हें पढ़कर समझाने का कोई उच्चस्तरीय अंतर्जालीय प्रयास न करें।
-----------------
              सूचना-अगर भारत के टीवी चैनल इस लेखक को बहसों में बुलाना चाहें तो वह दिल्ली आ सकता है। मोबाईल फोन न-8989475367, 9993637656, 8989475264 

Saturday, September 24, 2016

मोदीजी का भाषण पाकिस्तान के लिये मीठा व धीमा परमाणु बम भी साबित हो सकता है-हिन्दी संपादकीय (Modi Speach in Kozhikode-HindiEditorial)


                    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी योग साधक हैं और मानना पड़ेगा कि उनकी बुद्धि तथा वाणी में सरस्वती विराजती है।  कोझिकोड में आज उनके भाषण का सही अर्थ बहुत कम लोग समझ पायेंगे।  खासतौर से राष्ट्रवादी विचारकों के लिये भाषण के पूरे मायने समझना कठिन होगा-वह अखंड भारत का सपना देखते हैं पर कोई सार्वजनिक रूप से हमारी तरह नहीं कह पायेगा कि यह भाषण ‘अखंड भारत’ के प्रधानमंत्री का भाषण था। मोदी जी देश के पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने सिंध, बलूचिस्तान और पख्तूनों की जनता को बता दिया कि पाकिस्तान का मतलब पंजाब तक ही सीमित है। नवाज शरीफ और राहिल शरीफ पंजाबी हैं-इसी कारण आज तक वहां  सेना लोकतंत्र का बोझ ढो रही है। भारत तथा पाकिस्तान के टीवी चैनलों अनेक पाक सेना के पूर्व अधिकारी पंजाबी वक्त आते हैं जिन्हें लाहौर व इस्लामाबाद से आगे कुछ दिखता नहीं जहां से अब उनके लिये आफत आने वाली है।
              नवाज शरीफ आज आराम से सो सकते हैं क्योंकि मोदी जी ने त्वरित रूप से सैन्य कार्यवाही का संकेत नहीं दिया पर अपनी वायुसेना को इधर से उधर उड़ाकर पाकिस्तान को युद्ध की तैयारी के लिये तत्परता दिखाने वाला राहिल शरीफ अगले अनेक कई दिनों तक सो नहीं पायेगा। कहते हैं कि जहां तलवार काम नहीं करती वहां कलम या शाब्दिक चातुर्य काम करता हैं।  पाकिस्तान के कथित पंजाबी राष्ट्रभक्त आज अपने देश का नक्शा देख रहे होंगे  जो पश्चिमी पंजाब तक सिमटा नज़र आयेगा। राष्ट्रवादी शायद ही इस बात को समझ पायेंगे कि आज प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त के बाद अपने दूसरे भाषण में प्रगतिशील और जनवादी विद्वानों का उद्वेलित कर दिया है।
          इस भाषण को सिंध और पंजाब से आये हिन्दुओं की वह पीढ़ी पूरी तरह समझेगी जिसने अपने बुजुर्गों की आंखों में बंटवारे का दर्द देखा है। हमने अपनी माता पिता की आंखों में सिंध का नाम लेते ही जो दर्द देखा है उसे आज तक नहीं भूले। सिंधी हिन्दूओं की पूरी कौम एक तरह लुप्त करने का षड्यंत्र रचा गया-यही कारण है कि जब देशभक्ति जागती है तो ऐसे महापुरुषों के प्रति भी मन वितृष्णा से भर जाता है जिन्हें कथित स्वतंत्रता के बाद महापुरुष कहा जाता है।
                 याद रखें यह भारत के प्रधानमंत्री का भाषण था जिसे सरकारी घोषणा या नीति भी माना जाता है।  आज तक किसी प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान के सिंधी, बलूच तथा पख्तून जनमानस को इस तरह सीधे संबोधित नहीं किया। यह अनोखा दिन है-राहिल शरीफ की सारी अकड़ इतने में ही निकल जायेगी। वह सोचेगा कि आखिरी वह किस पाकिस्तान का सेनाध्यक्ष है।  सिंध, बलूच और पख्तून जनता पर इसका जो प्रभाव होगा उसका अनुमान वही कर सकता है जो पाकिस्तान की मीडिया पर नज़र रखे हुए है-पाक टीवी चैनल पर एक पंजाबी पूर्व सैन्य अधिकारी पख्तूनों को नमकहराम तक करार दिया था। जातीय संघर्ष में फंसा पाकिस्तान अब धार्मिक परचम के नीचे एक नहीं रह पायेगा। तत्काल तो नहीं पर कालांतर में यह भाषण धीमा और मीठा परमाणु बम भी साबित हो सकता है। 
--------------
नोट-अगर कोई टीवी चैनल वाला हमें इस विषय पर हमें आमंत्रित करना चाहे तो हम कल दिल्ली आने वाले हैं। 
दीपकबापूवाणी

Wednesday, September 21, 2016

बेजुबानों में ही अब मौन बचा है-दीपकबापूवाणी (Bejubanon mein hi maun bacha hai-DeepakBapuWani)

अंग्रेजी में मु्फ्त के माल उड़ायें, हिन्दी में पराये शब्द जुड़ायें।
‘दीपकबापू’ तोतलों की संगत में, अच्छा है वाणी से मौन जुडायें।
---------------
चारों तरफ शांति का शोर मचा है, बेजुबानों में ही अब मौन बचा है।
मन के मीत करें धन से प्रीत, साहुकार वही जिसे काला धन पचा है।।
------------------
असल के नाम पर नकल मिलाया है, अमृत कहकर विष खिलाया है।
‘दीपकबापू’ गम करना बेकार माने, सभी ने खुशी से दर्द पिलाया है।।
--------------
भीड़ में बहुत मिले लोग, मगर दोस्त अब भी दिल में छाये हैं।
तन्हाई नहीं अब सताती इतना, अच्छी यादें जो साथ लाये हैं।
------------

दिन में राम का नाम जापें, रात को रम में गला तापें।
‘दीपकबापू’ खड़े दरबार में, भक्त अपना ही भाव नापें।।
----------------
नाम के त्यागी सिंहासन पर विराजे, बजवा रहे प्रशंसा में बाजे।
‘दीपकबापू’ पकड़े वैभव मार्ग, भक्तों को दिखाते स्वर्ग के दरवाजे।
------------

नारे लगाकर वह लूट जाते, वादे निभाने से भी छूट जाते।
‘दीपकबापू’ शिष्टाचारी ठग बने, भले लोग झूठ से टूट जाते।।
-------------
मौसम बदलने के अहसास नहीं होते, जज़्बात सामानों का बोझ ढोते।
‘दीपकबापू’ दिल के अंदाज से अनजान, अपने लिये ही अकेलापन बोते।।
-------------
शांति की बात कातिलों से करते, भलमानसों में अपने लिये शक भरते।
‘दीपकबापू’ चला रहे बहसों का दौर, लाशों की तरफ देखने से डरते।।
-----------------
पहले पांच बरस बीते, अगले भी बीत जायेंगे।
‘दीपकबापू’ बनाये नये नारे, नयी फसल लायेंगे।।
--------------

Thursday, September 15, 2016

योग जब माया उत्पादन का उद्योग बन जाये-पतंजलि योग दर्शन विक्रय योग नहीं (Than yoga made a Industry-A Article on Patanjaliyoga

भारतीय दर्शन के अनुसार देवी सरस्वती तथा देवी लक्ष्मी का बैर है। वह दोनों एक जगह एक साथ नहीं रहती। इसे कोई अंधविश्वास कहे या विश्वास पर हमारी नज़र से यह एक प्रकृति सिद्धांत है कि जिनके पास ज्ञान बुद्धि अधिक है वह माया का संग्रह अधिक नहीं करते हैें और जो करते हैं भले ही ज्ञान के विक्रेता हों पर बुद्धि के खजांची नहीं हो सकते।
हमारे देश के प्राचीन ग्रंथों की सरस कथायेंए महान ऋषितुल्य लेखकों की पवित्र रचनायें तथा धार्मिक नायकों की भूमिकायें अध्यात्मिक ज्ञान के प्रचार के लिये महान संदर्भ का कार्य करती हैं। हमारा योग साहित्य तथा श्रीमद्भागवत गीता का ज्ञान इतना सरस है कि जितना पढ़ो उतनी ही जिज्ञासा बढ़ती जाती है। शर्त यही है कि सुनकर गुनो और पढ़कर समझो। बौद्धिक अनुसंधान कर अपने चिंत्तन से से निष्कर्ष निकालो। मगर पेशेवरों ने ऐसा जादू इस समाज पर किया है कि वह ग्रंथों का रटकर गुरु पदवी धारण करते हुए शिष्य संग्रह दक्षिणा की राशि के लिये करने मे लगे रहते है। कहने का अभिप्राय यह है कि भारतीय दर्शन विश्व में सबसे श्रेष्ठ व पूर्ण है। मजे की बात यह है कि भारतीय ज्ञान का विक्रय ही सबसे ज्यादा होता है। ज्ञान की पुस्तकें रटकर काम क्रोध तथा मोह त्यागने का नारे लगाने वाले मायापति हो जाते हैं। जिस तरह कलाए साहित्यए फिल्म तथा पत्रकारिता के शीर्ष पुरुष अपनी छवि के नकदीकरण के लिये समाजसेवा में आते हैं उसी तरह धार्मिक शिखरों के स्वामी भी नकदीकरण के मोह से नहीं बच पाते। इस प्रयास में उनकी छवि का रूप बदलता है इसका अहसास तक उनको नहीं होता। अनेक बुद्धिमान जन इनके प्रति अपनी धारणा बदलने लगते हैं.यह अलग बात है कि उनको पता नहीं होता।
सरस्वती पुत्र लक्ष्मीपति होकर भी इतराते हैं पर यह ज्ञान साधक वह सिद्ध जानते हैं कि इन देवियों का बैर अत्यंत वैज्ञानिक सिद्धांत है जिसे बदलने की क्षमता बड़े से बड़े योगी में नहीं होती।
================================================
नोट.कृपया इसे किसी परम सिद्ध योगचार्य तथा उसके प्रबंधक से न जोड़ें जो कभी योग के स्तंभ माने जाते थे और अब उनके उद्योग प्रबंधन तथा की संग्रहीत माया की चर्चा होने लगी है। योगाचार्य की छवि बदल कर उद्योगपति जैसे उनका प्रचार हो रहा है। हमने उनकी प्रशंसा में अपने ब्लॉग पर अनेक पाठ डाले जिसके लिये आलोचनात्मक टिप्पणियां भी झेलनी पड़ी। स्थिति यह है कि योग के प्रवर्तक महर्षि पतंजलि अब दवाओं के प्रचार नायक बना दिये गये हैं। टीवी पर पतंजलि का नाम जोड़कर दिखाये जा रहे विज्ञापनों यह अहसास होने लगा है कि अभी तक ज्ञान ही विक्रय योग्य था पर योग तो उससे अधिक दाम दिलाने वाला विषय बन गया है। बहरहाल उन दोनों की आलोचना करना उद्देश्य नहीं है पर अगर कोई करता है तो हम उसके जिम्मेदार नहीं है।

Sunday, September 11, 2016

सेवाओं की आवश्यकतानुसार विषयों के स्नातक नियुक्त किये जायें (Reservation in Acording Subject and Graduate)

               कभी कभी अंतर्जाल पर ऐसे प्रश्न सामने आ जाते हैं जिनके उत्तर हमारे चिंत्तन से भरपूर मस्तिष्क में सदैव मौजूद रहते हैं। वैसे अगर एक दो पंक्ति में चाहें तो उसका उत्तर संबंधित की दीवार पर ही लिख दें पर भाषा की विशेषज्ञता के अभाव में नहीं लिखते। फिर जो ऐसे प्रश्न उठाते हैं उन्हें सीधे उत्तर देने में यह संकोच होता है कि वह हमारी उपाधि या योग्यता पता करने लगें जो भारतीय अध्यात्मिक दर्शन के अध्ययन से अधिक नहीं है। एक तरह से उसके छात्र हैं न कि शिक्षक।
          बहरहाल फेसबुक में ढेर सारे अनुयायियों से जुड़े उन विद्वान ने एक विश्वविद्यालय के चुनाव में विज्ञान संकाय के छात्रों के अन्य संकायों से आधार पर मतदान करने पर यह सवाल उठाया था कि ‘विज्ञान के संकाय के अन्य छात्रों से अलग क्यों सोचते हैं?’
           इस प्रश्न पर सीधे तो नहीं पर अलग से हमारी एक सोच रही है। पुस्तकें मनुष्य की मित्र हैं और जैसे मित्र की संगत होती है उसके गुण उसमें आ ही जाते हैं।  विज्ञान व गणित के सूत्र छात्र के दिमाग में उलझन के बाद सुलझन की प्रक्रिया का दौर चलाते हैं जिससे उसकी बुद्धि में आक्रामकता या उष्णता आती है। एक तरह से बुद्धि तीक्ष्ण हो जाती है। कला, वाणिज्य तथा विधि के अध्ययन करने वालों में वह उष्णता नहीं आती पर शीतलता के कारण उनकी चिंत्तन क्षमता अधिक बढ़ती है।  सीधी बात कहें तो यह कि विज्ञान तथा गणित का अध्ययन मस्तिष्क को तीक्ष्ण करता है जिससे किसी अन्य विषय पर ज्यादा देर तक पाठक सोच नहीं सकता और जबकि अन्य विषय के अध्ययन करने वाला सहजता के कारण ठहराव से चिंत्तन करने का आदी हो जाता है।  यह अलग बात है कि अध्ययन करने के बाद अभिव्यक्त होने की शैली एक बहुत बड़ा महत्व रखती है। वह सभी में समान नहीं होती-किसी में तो होती भी नहीं है। उसका पुस्तकों के अध्ययन से कोई संबंध नहीं है। 
                अंग्रेज दुनियां के सबसे अहकारी लोग माने जाते हैं और उनकी शिक्षा प्रणाली अपनाने के कारण हमारे यहां भी यही स्थिति है। गणित तथा विज्ञान के छात्र जीवन से संबंधित अन्य विषयों में जानते नहीं है और अन्य विषयों के स्नातक अपने अलावा किसी के तर्क को  मानते नहीं है। यही कारण है कि आधुनिक शिक्षा साक्षरता के साथ ही सामाजिक अंतर्द्वंद्वों को भी बढ़ा ही रही है।
           आखिरी बात यह है कि हमारा यह भी मानना है कि सरकारी सेवाओं में विषयों के आधार पर लोगों को नियुक्त करना चाहिये। बैंक तथा लेखा सेवाओं में वाणिज्य स्नातक तो प्रबंध में विशेषज्ञता की उपाधि लेने वालों को प्रशासनिक सेवाओं में रखना चाहिये। गणित व विज्ञान के विशेषज्ञों को केवल तकनीकी सेवाओं में रखना चाहिये। उनमें मानवीय संवेनाओं की बजाय नवनिर्माण की क्षमता अधिक होती है जिसकी प्रशासनिक सेवाओं में अधिक आवश्यकता नहीं होती। प्रशासनिक सेवाओं में वाणिज्य स्नातक भी चल सकते हैं क्योंकि प्रबंध उनका विषय होता हैं। कला के स्नातकों का उन सेवाओं में करना चाहिये जहां मानवीय संवेदनाओं की अधिक आवश्यकता होती है। उन विद्वान प्रश्नकर्ता की दीवार पर अपना इतना बड़ा उत्तर रख नहीं सकते थे सो यहां चैंप दिया।
--------------
-दीपक ‘भारतदीप’

Wednesday, September 7, 2016

काल्पनिक विलास रोग के फैलता वायरस कौन ढूंढेगा-हिन्दी व्यंग्य लेख (Dream Troble viras denger for Society-Hindi Article)

        उस दिन एक चैनल पर एक मनोरोग की चर्चा आ रही थी जिसमें बताया गया कि आदमी अपने चक्षुओं से कोई बेहतर वस्तु, विषय या व्यक्ति देखता है तो उसके साथ दिमाग में स्वयं को श्रेष्ठ रूप से जुड़ा अनुभव करता है। हम अपनी भाषा में कहें तो वह ‘काल्पनिक विलास’ पालता है। चर्चा में बताया गया कि जब कोई आदमी किसी बड़े क्रिकेट खिलाड़ी को देखता है तो उसे लगता है कि वह स्वयं भी बड़ा क्रिकेट खिलाड़ी है। अगर किसी ने अच्छा काम किया है तो वह कल्पना करता है कि वह भी ऐसा ही कर रहा है। हमारे देश में ’कल्पना’ रोगियों की संख्या कितनी है मालुम नहीं पर रुपहले पर्दे पर नायक नायिकाओं के अभिनय को देखकर लोग वैसा दिखने तथा करने का अभिनय स्वयं को ही करके दिखाना चाहते हैं।  सेल्फी और मोटर साइकिल पर सवारी के दौरान मोबाइल पर बातें करते लोग ऐसी ही ‘कल्पना रोग’ के शिकार दिखते हैं।  रास्ते में अनेक लोग मोटर साइकिल चलाते हुए कान से मोबाइल पर बात करते हुए इस तरह चलते हैं जैसे कि सामने कोई कैमरा उनके अभिनय को रिकार्ड कर रहा है जिसे बाद में कहीं दिखाया जायेगा।  सेल्फी  तथा वाहन चलाते हुए मोबाइल पर बात करते हुए अनेक दुर्घटनायें हो रही हैं उससे तो लगता है कि हमारे देश में कल्पना रोग भी फैल गया है। एक बात समझ में नहीं आती कि किसी उद्यान, मूर्ति या तालाब के पास सेल्फी लेकर हम किसे दिखाना चाहते हैं और क्यों?
         एक सवाल हम अपने आप से पूछें कि क्या हमें पता है कि किसी को सेल्फी दिखाने पर वह हृदय से प्रभावित होता है या केवल शाब्दिक प्रशंसा कर रहा जाता है?
    इसका जवाब हम स्वयं ही ढूंढें कि हमें कोई सेल्फी दिखाता है तो हमारी बाह्य प्रतिक्रिया तथा आंतरिक प्रतिकिया में अंतर होता है या नहीं।
   कम से कम इस लेखक का अनुभव तो यही रहा है कि किसी भी आदमी का व्यवहार, विचार और व्यक्तित्व अगर भौतिक रूप से सुखदायक हो तो वह हर जगह प्रभाव डालता है। जीवन में अनेक ऐसे लोग मिले जिन्होंने अपने साथ हुई मुलाकातों में प्रभावित किया तो ऐसे भी मिले जो अपने सामानों का प्रदर्शन करते रहे और हम उदासीन भाव से देखते सुनते रहे। यह अलग बात है कि बाहर जाहिर होने नहीं दिया।  हमारा मानना है कि अपने सामान से प्रभावित करने वाले लोगों में अपने ही व्यक्तित्व और कृतित्व को लेकर संदेह होता है जिसे वह प्रदर्शन कर छिपाना चाहते हैं।  शाब्दिक ज्ञान के अभाव में लोग अर्थ में ही अनर्थ करते हैं-यानि अपने धन से ही अपने को बुद्धिमान, प्रतिभावान तथा मिलनसार साबित करने का प्रयास करते हैं। वैसे ही हमारे यहां धनियों मेें ढेर सारी कमियों के बाद भी उन्हें खानदानी, सभ्य और बुद्धिमान हमारा संपूर्ण समाज मानता है। बहरहाल कल्पना रोग के फैलते वायरस पर भी कोई अनुसंधान होना चाहिये। हम ध्यान क्रिया को इसका उपाय मानते हैं पर यह सभी के लिये नहीं सुझा रहे।

Monday, September 5, 2016

फेसबुक की आभासी दुनियां में बीते सपने फिर सत्य की तरह सामने आ रहे हैं (FaceBook and Past DReam of Life)

अगर हम अपने प्राचीन दर्शन का अध्ययन करें तो यह निष्कर्ष भी आता है कि इस प्रथ्वी पर जीवन ब्रह्मा जी की निद्रा की अवस्था देखे जा रहे सपने में रहता है। जब वह जाग्रत होते हैं तो सब शून्य हो जाता है। हम जब रात को सोते हैं तो इसी तरह अनेक प्राणी सपने में आते हैं। कभी दुःख तो कभी सुख आता है। जब हम जागते हैं तो एकदम अचंभा होता है कि जो निद्रा के दौरान स्वप्न था वह सब गायब हो गया। लगता है कि हम जागे हैं और सत्य सामने हैं। सत्य का यह भ्रम भी हो सकता है क्योंकि जो सामने है वह भी तो कभी लुप्त होना ही है। संभव है कि हम सपने में जो व्यक्ति देखें हों वह उतने पल तक सांसे लेकर अपने सत्य होने की अनुभूति करते हों जैसे हम ब्रह्मा जी के सपने में जी रहे हैं। हमारी जाग्रत अवस्था भी ब्रह्मा का सपना हो सकती है। पता नहीं हम हैं भी या नहीं।
मगर जब तक सांसें ले रहे हैं तब यह अहसास रखना ही चाहिये कि हम इस धरती पर मौजूद हैं। फकीर हो या सन्यासी वह इस जीवन को भ्रम मानते हैं पर सांसें लेते समय उन्हें भी अपने अस्तित्व की निरंतरंता की अनुभूति जरूर होती है। पिछले सात दिनों से फेसबुक पर कुछ ऐसी ही अनुभूति भी हो रही है जो सपने तथा सत्य के बीच अंतर्द्वंद्व से भरी है। ज्ञान साधना करते हुए हमने यह देखा कि हर दिन कल देखा गया सपना हो जाता है। अनेक लोग ऐसे हैं जो हमसे कार्यालय, घर तथा अन्य सार्वजनिक स्थानों पर मिले फिर अदृश्य हो गये। उनकी यादें ऐसे ही रहीं जैसे कि जागने पर सपने की होती थी-अब हमें रात के सपने याद नहीं रहते जो कि अच्छी निद्रा का प्रमाण होता है। हमारे दो फेसबुक हैं। एक पर हम करीब आठ वर्ष से सक्रिय हैं। इसका संबंध ब्लॉग के समय से हुआ था इसलिये सार्वजनिक मित्रों से संपर्क हुआ। एक निजी था जिसमें हमारे दो चार रिश्तेदार ही हुआ करते थे। कभी सोचा नहीं था कि फेसबुक समय के साथ इतना विराट रूप धारण करेगा। समय के साथ निजी फेसबुक पर कुछ मित्र आये। पिछले तीन महीने में कार्यालय के एक दा ेमित्रों ने इसका अनुसरण किया तो उससे बाकी लोगों की नज़र में आये। फिर हमने देखा कि फेसबुक हमारे उन्हें मित्रों को सामने रख रहा है जिन्होंने हमें छोड़ा या हम उन्हें छोड़ आये। हमने सोचा चलो अब उन्हें मित्र बनाते हैं। अचानक मित्रों की संख्या बढ़ गयी। यादों में बीते सपने की तरह मौजूद व्यक्तित्व फिर इस आभासी दुनियां में -इंटरनेट के पुराने लेखक इंटरनेट को इसी नाम से जानते हैं-जागते हुए लौट आये हैं। यह आभास दिलचस्प है। सपनों के बारे में एक पश्चिमी वैज्ञानिक कहते हैं कि रात को देखे सपने अगर सुबह उठने पर याद आयें तो इसका अर्थ यह है कि आप ढंग से सोये नहीं। सपनो के बारे में हमारे यहां कुछ लोग कहते हैं कि ब्रह्म मुहूर्त में देखे गये सपने सत्य होते हैं। हमारा मानना है कि सांसों का चलना सत्य है इसलिये जब तक ले रहे हैं शान से जीना चाहिये।
-------------

अध्यात्मिक पत्रिकाएं

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips