समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका
-------------------------


Tuesday, June 20, 2017

क्या हॉकी दिल और क्रिकेट पैसे का खेल है-हिन्दी संपादकीय (What Hocky is heart & Cricket play for money-HindiEditorial

                                           कुछ राष्ट्रवादी ‘इंडिया’ व भारत में अंतर करते हैं तो उन्हें रूढ़िवादी कहकर मजाक उड़ाया जाता है पर 18 जून के अंग्रेजों की धरती पर जो हुआ उससे उनके सिद्धांत का समर्थन ही किया जा सकता है। भारत की हॉकी टीम ने पाकिस्तान से सेमीफायनल खेला जिसमें वह 7-1 से जीती। उसी दिन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की टीम-जिसे हम एक क्ब ही मानते हैं-पाकिस्तान की टीम से मैच खेला और बुरी तरह हारे। सामान्यतः इसमें कुछ खास नहीं है पर भारतीय हाकी टीम ने पाकिस्तानी आतंकवाद का विरोध करते हुए बाहों पर काली पट्टी बांधी थी। हैरानी है बीसीसीआई के कर्ताधर्ताओं ने अपनी टीम को ऐसे निर्देश क्यों नहीं दिये? कारण है केवल पैसा! बीसीसीआई न अपनी टीमे चैंपियन ट्राफी में भाग अंग्रेजों को लगान तथा पाकिस्तान को हफ्ता वसूनी देने के लिये भेजी थी।  वैसे ही क्रिकेट गुलामों का खेला माना जाता है और कम से कम सांस्कृतिक व पारंपरिक रूप से तो यह भारत का अंग नहीं है। यहां प्रश्न है तो यह है कि एक ही देश की दूसरे देश के सामने दो खेलों में अलग अलग नीति क्यों हो गयी?
                   अब चाहे जो हो पर इतना तय है कि सामान्य जनों में बहुत सारे बुद्धिमान अब क्रिकेट और उसके खिलाड़ियों में देशभक्ति का अभाव या उदासनता देखेंगे। आखिर इस सवाल का जवाब कौन देगा कि काली पट्टी बांधकर खेलने वाले हॉकी देश के जनमानस के भाव से जुड़े तो क्या क्रिकेट खिलाड़ियों के बार में क्या कहा जाये? हम यह तो नहीं कहेंगेकि वह देशभक्त नहीं है पर उनकी उदासीनता इस बात का प्रमाण तो है कि कहीं न कहीं पैसा कमाना ही उनका पहला लक्ष्य है। क्या हम मान लें कि हमारी सीमा  के आकाश में इंडिया और धरती पर भारत है?
----
                                          जब हमें टीवी चैनल से पता लगा कि सट्टाबाजार में बीसीसीआई  का भाव 74 और पाकिस्तान का 65 पैसे है तो माथा ठनका।  मतलब यह मैच हम जैसे कमजोर हिन्दुत्ववादी, राष्ट्रवादी उससे ज्यादा ज्ञान साधक के लिये बीसीसीआई  पाक क्रिकेट मैच दर्दनाक होने वाला था। अपनी ज्ञानसाधना का लाभ हमें ऐसे ही मिलता है तभी तो कभी निराशा वाला दृश्य नहीं देखते।  ऐसे में इंडोनेशिया में श्रीकांत का फायनल एन्जॉय किया।  फिर भारत पाक हॉकी मैच देखा।  बीच बीच में चैनल बदलकर देखते थे कि कहीं ऐसा तो नहीं हम कोई अच्छा अवसर गंवा रहे हैं।  पिछले दो अनुभव ऐसे रहे हैं कि जिस दिन बीसीसीआई  की प्रतिद्वंद्वी टीम का भाव कम होता है उस दिन वह जीतने के मूड में नहीं रहती-यह कहें कि भाग्य खराब होता है। पिछली बार विश्व कप में आस्ट्रेलिया में उसके साथ ही बीसीसीआई की टीम का सेमीफायनल में मैच था। उस जीन्यूज से जब सुबह सट्टेबाजार की फेवरिट टीम आस्ट्रेलिया है तो हमारा माथा ठनका। सोच आज मैच नहीं देखें। इस मैच में उतारचढ़ाव आये-या कहा जाये कि लाये गये-पर अंततः बीसीसीआई की टीम हार गयी-कहना चाहिये कि सलीके से हारी ताकि किसी को संदेह नहीं हो। इस मैच में सलीके से नहीं हारी।  शायद इतना दबाव था कि सलीका वगैरह भूल ही गये। 
                                आज हमने टीवी के न्यूज चैनल देखने से परहेज की पर फेसबुकियों ने कल क्रिकेट की हार पर अपना विलाप जारी रखकर निराश किया। इसका मतलब साफ है कि सारे फेसबुकिये हमें पढ़ते ही नहीं है-वरना दर्दनाक दृश्य देखने के लिये टीवी पर आंखें नही गढ़ाते। उन्हें पता होना चाहिये था कि क्रिकेट में सटटाबाजार ही सबका बाप है। सबसे ज्यादा अफसोस है कि देश में नवाधनाढ्य देशभक्ति के नाम पर भले ही उबल पड़ें पर उनहें यह कोई समझाने वाला नहीं है कि अगर भारतीय क्रिकेट टीम का हमेशा जीतते देखना चाहते हैं तो एक भी पैसा भारत पर नहीं लगाओ। आम जानमानस को देशभक्ति सिखाने वाले अगर नवधनाढ़यों को क्रिकेट से सटटा न लगाने के लिये प्रेरित करें तो बात बने। वरना इस तरह विलाप करना बेकार है।
-
                                       जहां तक क्रिकेट का सवाल है हम उसे देशभक्ति का रस घोलने के विरोधी हैं। आईसीसीआई एक वैश्विक क्लब है जिसका मुख्यालय लार्डस में है। उसके बाद उसकी भारतीय शाखा बीसीसीआई के नाम से जानी जाती है। बीसीसीआई के पास बहुत पैसा है क्योंकि उसके पास आईपीएल जैसी कमाऊ प्रतियोगिता है। आईसीसीआई की स्थिति खराब हो रही थी। उसका अध्यक्ष भी एक भारतीय है सो किसी तरह योजनाबद्ध से भारत पाकिस्तान के एक नहीं दो मैचा आयोजित होने ही थे। हम यहां फिक्सिंग का आरोप तो नहीं लगायेंगे पर जिस तरह पिचें बनायीं गयी उससे दोनों ही टीम लाभदायक स्थिति में रहीं। हमारे देश में कुछ लोगों को गलतफहमी है कि गोरे ईमानदार होते हैं। हम यह मान लेते हैं पर यह भी बता दें कि वह बहुत चालक भी है-देख नहीं रहे कि कहते कि भारत को आजाद कर दिया पर काले अंग्रेजों को राज दे गये-इसलिये उन्होंने योजनाबद्ध ढंग से ज्यादा कमाई का जरिया ढूंढ ही लिया।
                    जिस तरह भारत पाकिस्तान के चैनल इस मैच में देश व धर्म भक्ति का रस डाल रहे हैं उससे उनके विज्ञापनों का समय खूब पास हो रहा है। यह नूराकुश्ती है पर एक आशंका है कि कहीं भारतीय कारोबारी पैसा कमाने की इस हद तक न चले जायें कि भारतीय टीम से मैच ही हरवा लें। आखिरी बात यह कि जिस तरह आईसीसीआई का चैंपियनशिपीय कारोबार चला है उससे एक बात साफ है कि बीसीसीआइ्र्र की गुप्त सहायता के बिना यह संभव नहीं था।  इधर देश का वातावरण इस तरह बना है कि भारत पाकिस्तान की द्विपक्षीय श्रृंखला हो ही नहीं सकती। इसलिये ऐसी प्रतियोगितायें आगे हो सकती हैं जहां भारत पाकिस्तान मैच बिकते रहें।

Friday, June 16, 2017

क्रिकेट को अब व्यापार मान लेना चाहिये- चैंपियन ट्रॉफी 2017 पर हिन्दी संपादकीय (Cricket should reconised as A Trade (Hindi Editorial on Chapion Trofy 20170

         
                                         हमने पहले भी सवाल उठाया था कि विश्व तथ चैंपियन क्रिकेट टॉफी प्रतियोगिता में भारत व पाकिस्तान एक ही समूह में क्यों रहते हैं? अनेक लोग कहते हैं कि भारत पाक क्रिकेट मैच किसी भी प्रतियोगिता को इतना कमाकर देता है कि क्रिकेट की विश्व कप संस्था का पूरे साल का खर्च निकल आता है।  हमें याद है कि 2013 में हुई चैंपियन ट्राफी आखिरी बतायी गयी पर 2017 में फिर आयोजित हुई। इसका कारण था कि भारत की बीसीससीआई को छोड़कर बाकी सारी देशों की क्रिकेट संस्थायें आर्थिक रूप से दम तोड़ रही थीं। अब चैंपियन ट्राफी में भारत पाक मैच से आईसीसीआई इतना कमा लेगा कि वह उनकी मदद कर सकेगा। कभी दुनियां की सबसे ताकतवर टीम वेस्टइंडीज तो इस प्रतियोगिता में पहुंचने लायक इसलिये नहीं रही क्योंकि वहां भारी आर्थिक संकट है। भारत के फायनल में पहुंचने की खुशी में भारत के एक चैनल में खुश होकर रौम में बहते हुए कह बैठी कि भारत के समूह में पाक का रहना बनता नहीं था पर चूंकि इससे इतनी कमाई होती है जिससे आईसीसीआई के पूरे साल का खर्च चल जाता है इसलिये इसे मैच को पहले से ही तय किया जाता है।
                   पाकिस्तान जिस तरह फाईनल में पहुंचा है उससे तो लगता है कि उससे हारने वाले देशों ने पहले ही उससे आगे बढ़ाने की तैयारी कर ली थी। श्रीलंका तथा दक्षिण अफ्रीका पर तो पहले ही पैसा खाकर कमतर प्रदर्शन करने के आरोप हैं अब इंग्लैंड भी शक के दायरे में आ गया है। ऐसे में पाकिस्तान के पुराने खिलाड़ी आमिर सुहैल ने सीधे कह दिया है कि नाकाबिल टीम होने के बावजूद हमारी टीम का पहुंचना ही संदेहास्पद है।  भारत के पेशेवर उसके बयान का विरोध कर रहे हैं यह हैरानी की बात है-गुलाम खेलते हुए उनकी मानसिकता इतनी घटिया रह गयी है कि वह मानते ही नहीं कि पैसे के लिये अंग्रेज बिक भी सकते हैं। जिस तरह इंग्लैंड खेला है उससे तो लग रहा कि वह हारने पर आमादा है। 
चैंपियन ट्राफी में भारत पाक का फायनल मैच बहुत बड़ी कमाई करायेगा। आईसीसीआई तथा बीसीसीआई को पैसा चाहिये। भारत पाक मैच पैसा देता है इसलिये यह तय हे कि एक उत्पाद की तरह इसका निर्माण किया गया है।  भारत यह मैच जीतेगा क्योंकि पैसा यहीं से मिलना है अगर हार गया तो एक बार फिर यहां का जनमानस विरक्त हो जायेगा।  मैचों में फिक्सिग होना नयी बात नहीं है। हमें उस पर भी आपत्ति नहीं होती अगर इन क्रिकेट मैचों को व्यवसायिक प्रदर्शन घोषित कर इनसे मनोंरजनकर कर आदि वसूल किया जाये।  यह मैच धंधे की तरह हैं। जिस तरह धंधेबाज अपनी दुकान सजाते हैं उसी तरह क्रिकेट के व्यापारी भारत पाकिस्तान मैच सजाते हैं। उस पर देशभक्ति तथा धर्म का रस भी लगाते हैं। एक बात जरूर कहनी पड़ेगी कि कभी कभी यह मान लेना चाहिये कि पाकिस्तान वाले कभी कभी सोच भी बोल जाते हैं।  अभी आपने सहबाग के विरुद्ध पाकिस्तानी किकेट खिलाड़ी राशिद लतीफ का नाम सुना था। देश में उस पर फब्तियां कसी गयीं पर बहुत कम लोगों को याद होगा कि उसने ही सबसे पहले फिक्सिंग का भूत क्रिकेट में दिखाया था। भारत के प्रचार माध्यम क्रिकेट के फिक्सिंग भूत से बचने की कोशिश करते हैं और सारे पुराने खिलाड़ी भी उनका साथ देते हैं। 

Tuesday, May 16, 2017

लोकतंत्र में गिरगिट की तरह रंग बदलना रोज देखा जा सकता है-हिन्दी व्यंग्यचिंत्तन (loktantra mein Girgit ki tarah rang badalna dekha ja sakta hai-HindiSatire Article)

                                          हमारे ब्लॉगों पर हमारी रचनायें देखकर अनेक पाठक सवाल करते थे कि आप इतना अच्छा लिखते हैं पर अपनी रचनायें हिन्दी समाचार पत्र पत्रिकाओं में क्यों नहीं भेजते? अपनी किताब क्यों नहीं प्रकाशित करवाते? हमसे जवाब देते नहीं बनता था।  अपनी रचनायें डाक से भेजते। फिर ईमेल से भी भेजीं। कुछ छपीं तो कुछ नहीं छपीं! हैरानी की बात यह रही कि यह रचनायें ऐसी हैं कि जिन्हें ब्लागों पर लाखों लोग पढ़ चुके हैं। इधर जब इंटरनेट पर लिखना प्रारंभ किया तो बाहर फिर निकले ही नहीं।
                       बैठकर सारे तमाशे देखें। साफ हो गया कि किताबें लिखने और छपवाने के लिये अधिक पैसा, उच्च पद या फिर अच्छी या बुरी प्रतिठा होना जरूरी है। एक लिपिक को एक लेखक के रूप में मान्यता नहीं मिल सकती। मैक्सिम गोर्की की एक कहानी है‘एक क्लर्क की मौत’। वह हृदय पटल पर अंकित है। उनका एक व्यंग्य भी है ‘गिरगिट’। जिस तरह अध्यात्मिक विषयों पर हमारा दर्शन प्रमाणिक है उसी तरह मैक्सिम गोर्की की रचनायें सांसरिक विषयों का वास्तविक रहस्य बता देती हैं।
                    एक क्लर्क की मौत तो हमने रोज देखी है। गिरगिट की तरह रंग बदलना तो हम अपने लोकतांत्रिक पुरुषों से सीख सकते हैं। जब केंद्र में हिन्दूवादी सरकार आयी तो देश में असहिष्णुता बढ़ने पर एक अघोषित आंदोलन चला। अनेक सम्मानित लोग अपने सम्मान लौटाने लगे। बिहार चुनाव समाप्त होते ही सब बंद हो गया। उत्तरप्रदेश चुनाव से पहले फिर एक ऐसा ही आंदोलन चला पर  उसका दांव फैल हो गया।
                  अब आजकल फिर कुछ लोग कह रहे हैं कि उनकी आवाज कुचली जा रही है। यह कौन लोग हैं? जिन पर सरकार जांच एजेंसियों की छापे पड़ रहे हैं। उच्च पदों पर बैठने के कारण इनकी अभिव्यक्ति बुलंद रही है। इनके रहन सहन तथा चाल चलन से ही यह सिद्ध होता है कि उच्च पद के बाद इनका स्तर गुणात्मक रूप से बढ़ा है। जार्ज बर्नाड शा का कहना है कि बिना बेईमानी के कोई अमीर बन ही नहीं सकता।  इन बड़े लोगों के पद छिन गये तो तय बात है कि सरकारी जांच एजेंसिया उनसे मुक्त हो गयी है।  अब यह लोग कह रहे हैं कि ‘हमारी अभिव्यक्ति कुचली जा रही है।’ रोज इनके नाम अखबारों में छपते हैं। टीवी पर इनके फोटो आते हैं। इनकी अभिव्यक्ति इतनी बुलंद है कि आम लेखक या बुद्धिजीवी की आवाज नकारखाने मे तूती की तरह हो जाती है। यह बड़े लोग उच्च पद पर जाकर रंग बदलते हैं। जब नीचे आते हैं तो सरकारी संस्थायें रंग बदलती हैं। अभिव्यक्ति का सवाल बस तभी उठता है जब भ्रष्टाचारी पकड़ा जाता है या फिर वह विद्वान रोते हैं जो मुफ्त में पलते हैं।
              लगता है कि लोकतंत्र बिना भ्रष्टाचार के चल ही नहीं सकता। साथ ही यह भी भ्रष्टाचार के विरोध के बिना भी नहीं चल सकता। गिरगिट का रंग बदलना लोकतंत्र में प्रतिदिन देखा जा सकता है।
--

Wednesday, May 10, 2017

अशोक के बौद्ध धर्म अपनाने की बात अतार्किक लगती है-हिन्दी लेख (Chenge of religion by The Great Ashoka is Inlogicable-Hindi Article)

                                      कथित राष्ट्रवादियों से कभी कभी तो चिढ़ आती हैं। यह भले ही दावा हिन्दूत्व की विचारधारा पर चलने का हों पर इनमें से एक भी ऐसा नहीं लगता जिसके पास तार्किक ज्ञान हो।  इतिहास में पढ़ाया जाता है कि अशोक ने हिन्दू धर्म छोड़कर बौद्ध धर्म अपनाया था। कुछ राष्ट्रवादी इसका ढंग से खंडन भी नहीं कर पाते। दरअसल भारत में धर्म शब्द आचरण से ही रहा है। भक्ति के प्रकारों को लेकर विवाद रहे हों पर यहां कभी उसे धर्म का हिस्सा नहीं माना गया। पूजा धर्म का प्रतीक कभी नहीं रही।  संभवतः यह समाज में धार्मिक विभाजन प्रारंभ हुआ जब  अकबर के काल से जिसने बड़ी चालाकी से दीन-ए-इलाही चलाकर समाज को यह जताने की कोशिश की धर्म का भी नाम या संज्ञा होती हैं। ंभारत के धर्म कभी संगठित या संस्थागत नहीं रहा पर अकबर अपने मूल धर्म के दीन-ऐ-इलाही के  रूप को यहां लाना चाहता होगा। जहां तक हमारी जानकारी है हिन्दू धर्म की तरह शब्द का उपयोग अंग्रेजों के काल में प्रारंभ हुआ है। उसके इतिहास पर हम अलग से चर्चा करेंगे।
                  कलिंग विजय के बाद वहां की दुर्दशा देखकर अशोक के हृदय में हिंसा के प्रति घृणा उत्पन्न हुई। अतः उसने अहिंसा का मार्ग अपनाने का निश्चय किया जोकि महात्मा बुद्ध ने दिखाया था। इसका यह आशय कतई नहीं है कि अशोक के हृदय में भारत के प्राचीन धार्मिक प्रतीकों या मूल अध्यात्मिक विचारधारा के प्रति कोई अरुचि पैदा हुई होगी। उसने महात्मा बुद्ध के संदेशों को पूरे विश्व में फैलाने का निश्चय किया पर इसे धर्म अपनाना या बदलना नहीं कहते।  हम बार बार कहते हैं कि धर्म की संज्ञा या नाम नहीं होता। सनातन धर्म भी कोई समाज की इकाई नहीं था।  सनातन  का आशय प्राचीन या अक्षुण्ण होता है। इससे आशय यही है कि संसार के अक्षुण्ण सत्य को समझना तथा उसके अनुसार ही आचरण करना। समस्या यह है कि सत्ता मे आने के बाद भी राष्ट्रवादी या हिन्दुत्व वादी उसमें ऐसे मस्त हो गये हैं कि उन्हें लगता है कि हमें अब किसी की जरूरत नहीं है। हम विद्वान हैं हम जो कहें वही ब्रह्म वाक्य है।  उन्होंने भारतीय धर्म ग्रंथों का अभ्यास नारे लगाने तक ही किया है। तीन साल निकल गये और हम जैसे ज्ञान साधक के साथ संपर्क नहीं किया। इनके अज्ञान का हम खूब मजा लेते हैं। पहले पांच सो हजार जनवादी व प्रगतिशील मिलकर सम्मानों की बंदरबांट करते थे और अब पचास सौ हिन्दुत्वादी भी यही कर रहे हैं। हमारे एक पुराने राष्ट्रवादी तो प्रधानमंत्री के साथ भी मिलकर फोटो खिंचवा चुके हैं पर उसके बाद उन्हें पूछा तक नहीं गया जबकि बड़ी शिद्दत से वह अब भी हिन्दुत्व विचाराधारा का प्रचार कर रहे हैं।  अगर यह राष्ट्रवादी या हिन्दुत्व वादी गंभीर होते तो पद्मश्री या पद्मविभूषण पुरस्कार उनको जरूर देते।
                               ऐसे अनेक विषय है जिसमें हिन्दुत्वादी अपनी बात चीख चिल्लाकर कहते हैं। कुछ तो गंभीरता भी ओढ़ लेते हैं। तर्क के नाम पर वही शून्य दिखता है।  फिर इधर कहते हैं कि इतिहास तोड़ा मोड़ा गया पर उधर किताबों में कोई बदलाव नहीं है।  ऐसे में समय इनके हाथ से जा रहा है। ऐसा लगता है कि हिन्दुत्व विचाराधारा का संघर्ष पहले से ज्यादा लंबा होने वाला है।

Friday, May 5, 2017

कंपनी दैत्यों के लिये पूरा संसार एक क्लब की तरह है-दो हिन्दी व्यंग्य रचनायें (A Club made all World for Company Devil- Two HindiSatireArticle)

कभी कभी पनामालीक्स भी पढ़ लिया करो-हिन्दी व्यंग्य
----
                                                 भाई लोग समझ नहीं रहे। लंबे चौड़े संदेश पेले जा रहे हैं। एक दूसरे पर प्रतिक्रियावादी होने का आरोप लगाते हैं पर हमारी नज़र में दोनो इसी रूप का बोझा सिर पर ढो रहे हैं।  यह पाकिस्तान, चीन और रूस का नाम ले लेकर लिखे जा रहे हैं। दूसरी तरफ हिन्दूत्व का नारा लग रहा है।
                                    अब यारो कुछ म्हारी भी बात समझो। पाकिस्तान क्या है? अंग्र्रेजों ने भारत का बंटवारा नहीं किया इस देश के कुछ विशिष्ट लोगों को लगने लगा था कि एक तो पूरा देश संभाल नहीं पायेंगे दूसरा यह कि लोकतंत्र के चलते एक दैत्य चाहिये ताकि जनता को उसका भय दिखा सकें। उधर हिन्दूओं का भय इधर अरेबिक संस्कृति का भय। दोनो जगह भय बड़ी आसानी से बिक रहा है। आक्रमण प्रत्याक्रमण का दौर चलता रहेगा। टीवी चैनलों पर बहसें होंगी तो पूंजीपतियों का विज्ञापन चलता रहेगा। उत्पाद बिकेंगे। वह यहां भी खिलायेंगे तो वहां भी खिलायेंगे।  हम नक्शे में बैठे राष्ट्रों के नाम देखते हैं और यह पूंजीपति उन्हें उन्हें निजी क्लब की तरह देखते हैं। दुनियां उनकी मुट्ठी में हैं-कम से कम कार्ल मार्क्स के चेलों को तो यह समझ लेना चाहिये। यह लोग  मिनटों में चाहे जहां से वहां पहुंच जायें। बड़े बड़े राष्ट्राध्यक्ष उनके मित्र हैं। कभी कभी पनामलीक्स के कागजात भी देख लिया करो। शरीफ, पुतिन और शीजिनपिंग वहां अपना खाता रखते हैं। क्या आप सोच सकते हैं कि अपने देश से संपत्ति चुराकर विदेश भेजने वाले लोग किसी बड़े युद्ध का दावतनामा स्वीकार करेंगे। नाम तो भारत के लोगों के भी हैं-पर भारतीय मीडिया उन पर चुप है। तय बात है कि यहां के सेठ लोग कभी अपने देश के युद्ध का प्रयोजन नहीं करेंगे क्योंकि इससे देश मे अफरातफरी मचेगी। ऐसे में उनका पूरा बाज़ार चौपट हो जायेगा। 
                       सो भारत पाक के बीच युद्ध जैसी बात तो भूल जाईये। तीसरे युद्ध की आहट टीवी चैनलों पर देखते रहिये। यह कभी होगा नहीं अलबत्ता टीवी चैनलों पर बहस में समाचार चलाने के लिये विज्ञापन का समय अच्छा निकलता रहेगा। 
कंपनी दैत्य तो इधर भी खिलाता है उधर भी खिलाता है-लघु हिन्दी व्यंग्य
-      
                                 हमारे घर या कहें पूरी कालौनी का डिस्क कनेक्शन मृतप्रायः है पर लगता नहीं कि किसी को इसकी परवाह है। हमें ही नहीं है। हम डिस्क पर समाचार चैनल देखते रहे हैं-अब उनसे भी उकता गये थे। वही क्रिकेट, फिल्म, राजनीति और पाकिस्तान के विषय। फिल्म और राजनीति में पुराने चेहरे ही देखदेखकर बोर हो गये। एक समय था जब केवल जीटीवी का मनोरंजन चैनल ही मिलता था। तब एक आध घंटा न मिले तो साइकिल पर एक किलोमीटर दूर जाकर ऑपरेटर का घर खटखटाते थे। अब इसकी परवाह नहीं है। फिलहाल तो अपना ब्लॉग और अपना फेसबुक है सोच चिंत्तन का आंनद उठा ही लेते हैं।
                 इधर अब फेसबुक और ब्लॉग पर लिखते हुए बीच बीच में समाचार चैनल देखते हैं।  वही पुराने विषय। वही पाकिस्तान, वही राजनीतिक चेहरे, वही विकास के वादे, और वही बहस जिसमें पहले के हमलावार वक्ता अब रक्षा कवच पहनकर आते है और उनके सामने  रक्षाकवच गंवा चुके हमलावर वक्ता होते है।  ऐसे में हम भी यह सोचकर आलसी होते जा रहे हैं कि जब ऑपरेटर शुरु करेगा तब देखेंगे। हमने प्रयास यह किया कि शायद दूरदर्शन चैनल पहले की तरह मिल जाये पर दिखता नहीं। यही डिजिटल इंडिया है जिसमें अब कोई चीज बिना दाम के नहीं मिलती। हम कंपनी दैत्य का जानते हैं। वह अब अंतर्राष्ट्रीय रूप धारण कर चुका है। उसके लिये पूरी दुनियां एक क्लब है।
        एक पान मसाले का विज्ञापन आता था जिसमें अभिनेता कहता है कि ‘हम इधर भी खिलाते हैं, उधर भी खिलाते हैं।’
         इसी कंपनी दैत्य को टीवी चैनल इधर भी चलाने हैं उधर भी चलाने हैं।  आप कभी भक्ति रस में डूबिये या श्रृंगार रस चूसिये या फिर वीर रस में उड़िये। यह तय करने का आपका हक है पर विषय या संदर्भ आपको इसी कंपनी दैत्य से तय करने पर मिलेंगे। हमने कभी उसके विषयों का रस नहीं लिया वरन् अपने ही चिंत्तन रस में आनंद लेते हैं। 

Monday, May 1, 2017

मजदूर दिवस पर सभी श्रमजीवियों को हार्दिक बधाई


                               जो लोग मजाक में मजदूर दिवस को पुरुष दिवस का पर्याय मान रहे हैं उनकी दिव्य दृष्टि केवल भारत के वर्तमान सभ्रांत समाज तक जा रही है या फिर वह उलटपंथियों के विचार प्रवाह में ही बह रहे हैं जिसमें नारी को अबला ही माना जाता है-उन्हें बालक और नारी के विषय प्रथक रूप से विमर्श के लिये लगते हैं। सभ्रांत वर्ग की अपेक्षा श्रमशील का जीवन संघर्ष बहुत अधिक होता है-पुरुष हो या महिला संयुक्त रूप से परिवार चलाने-या कहें बचाने-के लिये संघर्षरत रहते हैं । श्रमशील परिवार के पुरुष का संघर्ष जहां कठिन होता है तो वहीं महिला का तो  अति कठिन होता है। वह न केवल कमाने में पति की मदद करती है वरन उसके लिये खाना पकाने के साथ ही बच्चे संभालने का काम भी करती है। अतः मजदूर दिवस पर नारियों को अलग देखना एक भद्दा मजाक लगता है।
---------------
अध्यात्मिक ज्ञान बाज़ार में नहीं मिलता
-----------------

           लोग अध्यात्मिक ज्ञान पाने के लिये इधर उधर फिरते हैं।  अनेक लोग हैं तो आकंठ सांसरिक विषयों में डूबे हैं पर उनके मन में भी यह उत्कण्ठा रहती है कि कहीं ऐसी जगह जायें जहां शांति मिले-यह कहीं न कहीं विरक्ति का भाव रहता है जो ऊब से पैदा होता है।  ज्ञान के व्यवसायी इसका भरपूर लाभ उठाते हें और उन्हें अपने पास बुंलाकर कहीं न कहीं उनका आर्थिक दोहन करते हैं। आदमी कुछ देर की शांति के बाद वापस लौटता है और फिर वही अशांति उसे तत्काल घेर लेती है। अध्यात्मिक ज्ञान का मूल सिद्धांत यह है कि हम स्वयं को दृष्टा समझें न कि कर्ता। किसी दृश्य को देखें तो उस पर विचार कर अपनी राय कायम करें।  बोलने से पहले सोचें।  व्यवहार में इस बात का ध्यान रखें कि समय कभी एक जैसा नहीं रहता। समय की छोड़िये हमारा मन ही एक राह नहीं चलता।  ऐसे में दोस्त भी सावधानी बनाना चाहिये वरना दुश्मन भी ज्यादा होते हैं। संगत की रंगत से बचना संभव नहीं है इसलिये यह देखना चाहिये कि इसलिये व्यक्ति के गुण दुर्गुण देखकर किसी से संबंध कायम करें।  वरना अंदर के भटकाव को बाहर रास्ता दिखाने का कोई भी व्यक्ति नहीं है-यही सच्चाई है।

Wednesday, April 19, 2017

अंतर्जाल पर सौम्य व सुंदर तस्वीर दिखाने वाले सदाबहार बने रहें (Internet And Beutiful Foto)


                                 हमारे दो फेसबुक खाते हैं। पहले सार्वजनिक फेसबुक के एक या दो वर्ष दूसरा  केवल निजी संपर्क वाले लोगों के लिये ही बिनाया था। देखते देखते वहां मित्रों का झुंड बन गया। हम दस वर्ष से अंतर्जाल पर सक्रिय है। आरंमिक दौर में अपने जैसे ही फुर्सतिया लेखकों ने हमें प्रोत्साहित किया पर फेसबुक के बाद वह छूट गये। इनमें से कुछ आज भी साथी हैं। तब हिन्दी भाषा इतनी नहीं लिखी और पढ़ी जाती थी जितनी अब।  अंतर्जाल पर निजी मित्र तो कोई था ही नहीं। उस समय जब हम लोगों को बताते थे कि हम अंतर्जाल पर लिखते हैं तो मासूमियत से देखते थे। अब निजी संपर्क वाला ऐसा कौनसा नाम है जिसे ढूंढने निकले और वह मिले नहीं।  कईयों को हम देखते हैं पर उन्हें अपना फेसबुक दिखाने नहीं जाते।  भूले बिसरे लोगों को ढूंढ निकाला। उम्र की कोई सीमा नहीं देखी।  सतर से अस्सी वर्ष के  लोगों को फेसबुक से ढूंढ निकाला। हम सतत फेसबुक नहीं बैठते-समय नहीं ढूंढते, मिलता है तो बैठ जाते हैं।
                    हमारी राय में फेसबुक पर मनोविज्ञान का अध्ययन सहजता से किया जा सकता है। दोनों फेसबुक पर एक मजेदार बात हमने देखी है। निजी संपर्क वालों में एक पहचान और सार्वजनिक संपर्क वाले पर दो मित्र महिलाओं की सौम्य, सुंदर तथा आकर्षक तस्वीरों डालते हैं। दोनों की उम्र समान होगी पर जातीय पहचान अलग है। इनकी तस्वीरें एक ही दिन में एक से दस तक हो सकती हैं। तय बात है कि यह लोग स्वयं उनका संग्रह नहीं करते बल्कि यहीं अंतर्जाल से निकालते होंगे। जब हम अपनी  घरेलू स्तंभ देखते हैं तो एक दो पोस्ट के बाद इनकी तस्वीरें आती रहती हैं। अगर कोई इनकी उम्र देखे तो शायद व्यंग्यात्मक टिप्पणी भी कर सकता है पर हम जैसे सकारात्मक विचार वाले तो इनके प्रयासों की सराहना ही करेगा। यह हमें श्रृगार रस का असमय सेवन कराते हैं जो बोझिल वातावरण को भी रसदार बना देता है।  बस एक ही विचार आता है यार यह इतनी सारी तस्वीरों लाते कहां से हैं? हम पूछते नहीं क्योंकि लगता है कि उनक अंतर्जाल साधना बाधित न हो। हम शब्दप्रेमी हैं और पढ़ने लिखने में ही हमारी रुचि है फिर भी इतना जरूर कहना चाहेंगे कि ऐसे माननीय लोग सदाबहार बने रहें।

अध्यात्मिक पत्रिकाएं

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips