समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका
-------------------------


Tuesday, May 16, 2017

लोकतंत्र में गिरगिट की तरह रंग बदलना रोज देखा जा सकता है-हिन्दी व्यंग्यचिंत्तन (loktantra mein Girgit ki tarah rang badalna dekha ja sakta hai-HindiSatire Article)

                                          हमारे ब्लॉगों पर हमारी रचनायें देखकर अनेक पाठक सवाल करते थे कि आप इतना अच्छा लिखते हैं पर अपनी रचनायें हिन्दी समाचार पत्र पत्रिकाओं में क्यों नहीं भेजते? अपनी किताब क्यों नहीं प्रकाशित करवाते? हमसे जवाब देते नहीं बनता था।  अपनी रचनायें डाक से भेजते। फिर ईमेल से भी भेजीं। कुछ छपीं तो कुछ नहीं छपीं! हैरानी की बात यह रही कि यह रचनायें ऐसी हैं कि जिन्हें ब्लागों पर लाखों लोग पढ़ चुके हैं। इधर जब इंटरनेट पर लिखना प्रारंभ किया तो बाहर फिर निकले ही नहीं।
                       बैठकर सारे तमाशे देखें। साफ हो गया कि किताबें लिखने और छपवाने के लिये अधिक पैसा, उच्च पद या फिर अच्छी या बुरी प्रतिठा होना जरूरी है। एक लिपिक को एक लेखक के रूप में मान्यता नहीं मिल सकती। मैक्सिम गोर्की की एक कहानी है‘एक क्लर्क की मौत’। वह हृदय पटल पर अंकित है। उनका एक व्यंग्य भी है ‘गिरगिट’। जिस तरह अध्यात्मिक विषयों पर हमारा दर्शन प्रमाणिक है उसी तरह मैक्सिम गोर्की की रचनायें सांसरिक विषयों का वास्तविक रहस्य बता देती हैं।
                    एक क्लर्क की मौत तो हमने रोज देखी है। गिरगिट की तरह रंग बदलना तो हम अपने लोकतांत्रिक पुरुषों से सीख सकते हैं। जब केंद्र में हिन्दूवादी सरकार आयी तो देश में असहिष्णुता बढ़ने पर एक अघोषित आंदोलन चला। अनेक सम्मानित लोग अपने सम्मान लौटाने लगे। बिहार चुनाव समाप्त होते ही सब बंद हो गया। उत्तरप्रदेश चुनाव से पहले फिर एक ऐसा ही आंदोलन चला पर  उसका दांव फैल हो गया।
                  अब आजकल फिर कुछ लोग कह रहे हैं कि उनकी आवाज कुचली जा रही है। यह कौन लोग हैं? जिन पर सरकार जांच एजेंसियों की छापे पड़ रहे हैं। उच्च पदों पर बैठने के कारण इनकी अभिव्यक्ति बुलंद रही है। इनके रहन सहन तथा चाल चलन से ही यह सिद्ध होता है कि उच्च पद के बाद इनका स्तर गुणात्मक रूप से बढ़ा है। जार्ज बर्नाड शा का कहना है कि बिना बेईमानी के कोई अमीर बन ही नहीं सकता।  इन बड़े लोगों के पद छिन गये तो तय बात है कि सरकारी जांच एजेंसिया उनसे मुक्त हो गयी है।  अब यह लोग कह रहे हैं कि ‘हमारी अभिव्यक्ति कुचली जा रही है।’ रोज इनके नाम अखबारों में छपते हैं। टीवी पर इनके फोटो आते हैं। इनकी अभिव्यक्ति इतनी बुलंद है कि आम लेखक या बुद्धिजीवी की आवाज नकारखाने मे तूती की तरह हो जाती है। यह बड़े लोग उच्च पद पर जाकर रंग बदलते हैं। जब नीचे आते हैं तो सरकारी संस्थायें रंग बदलती हैं। अभिव्यक्ति का सवाल बस तभी उठता है जब भ्रष्टाचारी पकड़ा जाता है या फिर वह विद्वान रोते हैं जो मुफ्त में पलते हैं।
              लगता है कि लोकतंत्र बिना भ्रष्टाचार के चल ही नहीं सकता। साथ ही यह भी भ्रष्टाचार के विरोध के बिना भी नहीं चल सकता। गिरगिट का रंग बदलना लोकतंत्र में प्रतिदिन देखा जा सकता है।
--

Wednesday, May 10, 2017

अशोक के बौद्ध धर्म अपनाने की बात अतार्किक लगती है-हिन्दी लेख (Chenge of religion by The Great Ashoka is Inlogicable-Hindi Article)

                                      कथित राष्ट्रवादियों से कभी कभी तो चिढ़ आती हैं। यह भले ही दावा हिन्दूत्व की विचारधारा पर चलने का हों पर इनमें से एक भी ऐसा नहीं लगता जिसके पास तार्किक ज्ञान हो।  इतिहास में पढ़ाया जाता है कि अशोक ने हिन्दू धर्म छोड़कर बौद्ध धर्म अपनाया था। कुछ राष्ट्रवादी इसका ढंग से खंडन भी नहीं कर पाते। दरअसल भारत में धर्म शब्द आचरण से ही रहा है। भक्ति के प्रकारों को लेकर विवाद रहे हों पर यहां कभी उसे धर्म का हिस्सा नहीं माना गया। पूजा धर्म का प्रतीक कभी नहीं रही।  संभवतः यह समाज में धार्मिक विभाजन प्रारंभ हुआ जब  अकबर के काल से जिसने बड़ी चालाकी से दीन-ए-इलाही चलाकर समाज को यह जताने की कोशिश की धर्म का भी नाम या संज्ञा होती हैं। ंभारत के धर्म कभी संगठित या संस्थागत नहीं रहा पर अकबर अपने मूल धर्म के दीन-ऐ-इलाही के  रूप को यहां लाना चाहता होगा। जहां तक हमारी जानकारी है हिन्दू धर्म की तरह शब्द का उपयोग अंग्रेजों के काल में प्रारंभ हुआ है। उसके इतिहास पर हम अलग से चर्चा करेंगे।
                  कलिंग विजय के बाद वहां की दुर्दशा देखकर अशोक के हृदय में हिंसा के प्रति घृणा उत्पन्न हुई। अतः उसने अहिंसा का मार्ग अपनाने का निश्चय किया जोकि महात्मा बुद्ध ने दिखाया था। इसका यह आशय कतई नहीं है कि अशोक के हृदय में भारत के प्राचीन धार्मिक प्रतीकों या मूल अध्यात्मिक विचारधारा के प्रति कोई अरुचि पैदा हुई होगी। उसने महात्मा बुद्ध के संदेशों को पूरे विश्व में फैलाने का निश्चय किया पर इसे धर्म अपनाना या बदलना नहीं कहते।  हम बार बार कहते हैं कि धर्म की संज्ञा या नाम नहीं होता। सनातन धर्म भी कोई समाज की इकाई नहीं था।  सनातन  का आशय प्राचीन या अक्षुण्ण होता है। इससे आशय यही है कि संसार के अक्षुण्ण सत्य को समझना तथा उसके अनुसार ही आचरण करना। समस्या यह है कि सत्ता मे आने के बाद भी राष्ट्रवादी या हिन्दुत्व वादी उसमें ऐसे मस्त हो गये हैं कि उन्हें लगता है कि हमें अब किसी की जरूरत नहीं है। हम विद्वान हैं हम जो कहें वही ब्रह्म वाक्य है।  उन्होंने भारतीय धर्म ग्रंथों का अभ्यास नारे लगाने तक ही किया है। तीन साल निकल गये और हम जैसे ज्ञान साधक के साथ संपर्क नहीं किया। इनके अज्ञान का हम खूब मजा लेते हैं। पहले पांच सो हजार जनवादी व प्रगतिशील मिलकर सम्मानों की बंदरबांट करते थे और अब पचास सौ हिन्दुत्वादी भी यही कर रहे हैं। हमारे एक पुराने राष्ट्रवादी तो प्रधानमंत्री के साथ भी मिलकर फोटो खिंचवा चुके हैं पर उसके बाद उन्हें पूछा तक नहीं गया जबकि बड़ी शिद्दत से वह अब भी हिन्दुत्व विचाराधारा का प्रचार कर रहे हैं।  अगर यह राष्ट्रवादी या हिन्दुत्व वादी गंभीर होते तो पद्मश्री या पद्मविभूषण पुरस्कार उनको जरूर देते।
                               ऐसे अनेक विषय है जिसमें हिन्दुत्वादी अपनी बात चीख चिल्लाकर कहते हैं। कुछ तो गंभीरता भी ओढ़ लेते हैं। तर्क के नाम पर वही शून्य दिखता है।  फिर इधर कहते हैं कि इतिहास तोड़ा मोड़ा गया पर उधर किताबों में कोई बदलाव नहीं है।  ऐसे में समय इनके हाथ से जा रहा है। ऐसा लगता है कि हिन्दुत्व विचाराधारा का संघर्ष पहले से ज्यादा लंबा होने वाला है।

Friday, May 5, 2017

कंपनी दैत्यों के लिये पूरा संसार एक क्लब की तरह है-दो हिन्दी व्यंग्य रचनायें (A Club made all World for Company Devil- Two HindiSatireArticle)

कभी कभी पनामालीक्स भी पढ़ लिया करो-हिन्दी व्यंग्य
----
                                                 भाई लोग समझ नहीं रहे। लंबे चौड़े संदेश पेले जा रहे हैं। एक दूसरे पर प्रतिक्रियावादी होने का आरोप लगाते हैं पर हमारी नज़र में दोनो इसी रूप का बोझा सिर पर ढो रहे हैं।  यह पाकिस्तान, चीन और रूस का नाम ले लेकर लिखे जा रहे हैं। दूसरी तरफ हिन्दूत्व का नारा लग रहा है।
                                    अब यारो कुछ म्हारी भी बात समझो। पाकिस्तान क्या है? अंग्र्रेजों ने भारत का बंटवारा नहीं किया इस देश के कुछ विशिष्ट लोगों को लगने लगा था कि एक तो पूरा देश संभाल नहीं पायेंगे दूसरा यह कि लोकतंत्र के चलते एक दैत्य चाहिये ताकि जनता को उसका भय दिखा सकें। उधर हिन्दूओं का भय इधर अरेबिक संस्कृति का भय। दोनो जगह भय बड़ी आसानी से बिक रहा है। आक्रमण प्रत्याक्रमण का दौर चलता रहेगा। टीवी चैनलों पर बहसें होंगी तो पूंजीपतियों का विज्ञापन चलता रहेगा। उत्पाद बिकेंगे। वह यहां भी खिलायेंगे तो वहां भी खिलायेंगे।  हम नक्शे में बैठे राष्ट्रों के नाम देखते हैं और यह पूंजीपति उन्हें उन्हें निजी क्लब की तरह देखते हैं। दुनियां उनकी मुट्ठी में हैं-कम से कम कार्ल मार्क्स के चेलों को तो यह समझ लेना चाहिये। यह लोग  मिनटों में चाहे जहां से वहां पहुंच जायें। बड़े बड़े राष्ट्राध्यक्ष उनके मित्र हैं। कभी कभी पनामलीक्स के कागजात भी देख लिया करो। शरीफ, पुतिन और शीजिनपिंग वहां अपना खाता रखते हैं। क्या आप सोच सकते हैं कि अपने देश से संपत्ति चुराकर विदेश भेजने वाले लोग किसी बड़े युद्ध का दावतनामा स्वीकार करेंगे। नाम तो भारत के लोगों के भी हैं-पर भारतीय मीडिया उन पर चुप है। तय बात है कि यहां के सेठ लोग कभी अपने देश के युद्ध का प्रयोजन नहीं करेंगे क्योंकि इससे देश मे अफरातफरी मचेगी। ऐसे में उनका पूरा बाज़ार चौपट हो जायेगा। 
                       सो भारत पाक के बीच युद्ध जैसी बात तो भूल जाईये। तीसरे युद्ध की आहट टीवी चैनलों पर देखते रहिये। यह कभी होगा नहीं अलबत्ता टीवी चैनलों पर बहस में समाचार चलाने के लिये विज्ञापन का समय अच्छा निकलता रहेगा। 
कंपनी दैत्य तो इधर भी खिलाता है उधर भी खिलाता है-लघु हिन्दी व्यंग्य
-      
                                 हमारे घर या कहें पूरी कालौनी का डिस्क कनेक्शन मृतप्रायः है पर लगता नहीं कि किसी को इसकी परवाह है। हमें ही नहीं है। हम डिस्क पर समाचार चैनल देखते रहे हैं-अब उनसे भी उकता गये थे। वही क्रिकेट, फिल्म, राजनीति और पाकिस्तान के विषय। फिल्म और राजनीति में पुराने चेहरे ही देखदेखकर बोर हो गये। एक समय था जब केवल जीटीवी का मनोरंजन चैनल ही मिलता था। तब एक आध घंटा न मिले तो साइकिल पर एक किलोमीटर दूर जाकर ऑपरेटर का घर खटखटाते थे। अब इसकी परवाह नहीं है। फिलहाल तो अपना ब्लॉग और अपना फेसबुक है सोच चिंत्तन का आंनद उठा ही लेते हैं।
                 इधर अब फेसबुक और ब्लॉग पर लिखते हुए बीच बीच में समाचार चैनल देखते हैं।  वही पुराने विषय। वही पाकिस्तान, वही राजनीतिक चेहरे, वही विकास के वादे, और वही बहस जिसमें पहले के हमलावार वक्ता अब रक्षा कवच पहनकर आते है और उनके सामने  रक्षाकवच गंवा चुके हमलावर वक्ता होते है।  ऐसे में हम भी यह सोचकर आलसी होते जा रहे हैं कि जब ऑपरेटर शुरु करेगा तब देखेंगे। हमने प्रयास यह किया कि शायद दूरदर्शन चैनल पहले की तरह मिल जाये पर दिखता नहीं। यही डिजिटल इंडिया है जिसमें अब कोई चीज बिना दाम के नहीं मिलती। हम कंपनी दैत्य का जानते हैं। वह अब अंतर्राष्ट्रीय रूप धारण कर चुका है। उसके लिये पूरी दुनियां एक क्लब है।
        एक पान मसाले का विज्ञापन आता था जिसमें अभिनेता कहता है कि ‘हम इधर भी खिलाते हैं, उधर भी खिलाते हैं।’
         इसी कंपनी दैत्य को टीवी चैनल इधर भी चलाने हैं उधर भी चलाने हैं।  आप कभी भक्ति रस में डूबिये या श्रृंगार रस चूसिये या फिर वीर रस में उड़िये। यह तय करने का आपका हक है पर विषय या संदर्भ आपको इसी कंपनी दैत्य से तय करने पर मिलेंगे। हमने कभी उसके विषयों का रस नहीं लिया वरन् अपने ही चिंत्तन रस में आनंद लेते हैं। 

Monday, May 1, 2017

मजदूर दिवस पर सभी श्रमजीवियों को हार्दिक बधाई


                               जो लोग मजाक में मजदूर दिवस को पुरुष दिवस का पर्याय मान रहे हैं उनकी दिव्य दृष्टि केवल भारत के वर्तमान सभ्रांत समाज तक जा रही है या फिर वह उलटपंथियों के विचार प्रवाह में ही बह रहे हैं जिसमें नारी को अबला ही माना जाता है-उन्हें बालक और नारी के विषय प्रथक रूप से विमर्श के लिये लगते हैं। सभ्रांत वर्ग की अपेक्षा श्रमशील का जीवन संघर्ष बहुत अधिक होता है-पुरुष हो या महिला संयुक्त रूप से परिवार चलाने-या कहें बचाने-के लिये संघर्षरत रहते हैं । श्रमशील परिवार के पुरुष का संघर्ष जहां कठिन होता है तो वहीं महिला का तो  अति कठिन होता है। वह न केवल कमाने में पति की मदद करती है वरन उसके लिये खाना पकाने के साथ ही बच्चे संभालने का काम भी करती है। अतः मजदूर दिवस पर नारियों को अलग देखना एक भद्दा मजाक लगता है।
---------------
अध्यात्मिक ज्ञान बाज़ार में नहीं मिलता
-----------------

           लोग अध्यात्मिक ज्ञान पाने के लिये इधर उधर फिरते हैं।  अनेक लोग हैं तो आकंठ सांसरिक विषयों में डूबे हैं पर उनके मन में भी यह उत्कण्ठा रहती है कि कहीं ऐसी जगह जायें जहां शांति मिले-यह कहीं न कहीं विरक्ति का भाव रहता है जो ऊब से पैदा होता है।  ज्ञान के व्यवसायी इसका भरपूर लाभ उठाते हें और उन्हें अपने पास बुंलाकर कहीं न कहीं उनका आर्थिक दोहन करते हैं। आदमी कुछ देर की शांति के बाद वापस लौटता है और फिर वही अशांति उसे तत्काल घेर लेती है। अध्यात्मिक ज्ञान का मूल सिद्धांत यह है कि हम स्वयं को दृष्टा समझें न कि कर्ता। किसी दृश्य को देखें तो उस पर विचार कर अपनी राय कायम करें।  बोलने से पहले सोचें।  व्यवहार में इस बात का ध्यान रखें कि समय कभी एक जैसा नहीं रहता। समय की छोड़िये हमारा मन ही एक राह नहीं चलता।  ऐसे में दोस्त भी सावधानी बनाना चाहिये वरना दुश्मन भी ज्यादा होते हैं। संगत की रंगत से बचना संभव नहीं है इसलिये यह देखना चाहिये कि इसलिये व्यक्ति के गुण दुर्गुण देखकर किसी से संबंध कायम करें।  वरना अंदर के भटकाव को बाहर रास्ता दिखाने का कोई भी व्यक्ति नहीं है-यही सच्चाई है।

Wednesday, April 19, 2017

अंतर्जाल पर सौम्य व सुंदर तस्वीर दिखाने वाले सदाबहार बने रहें (Internet And Beutiful Foto)


                                 हमारे दो फेसबुक खाते हैं। पहले सार्वजनिक फेसबुक के एक या दो वर्ष दूसरा  केवल निजी संपर्क वाले लोगों के लिये ही बिनाया था। देखते देखते वहां मित्रों का झुंड बन गया। हम दस वर्ष से अंतर्जाल पर सक्रिय है। आरंमिक दौर में अपने जैसे ही फुर्सतिया लेखकों ने हमें प्रोत्साहित किया पर फेसबुक के बाद वह छूट गये। इनमें से कुछ आज भी साथी हैं। तब हिन्दी भाषा इतनी नहीं लिखी और पढ़ी जाती थी जितनी अब।  अंतर्जाल पर निजी मित्र तो कोई था ही नहीं। उस समय जब हम लोगों को बताते थे कि हम अंतर्जाल पर लिखते हैं तो मासूमियत से देखते थे। अब निजी संपर्क वाला ऐसा कौनसा नाम है जिसे ढूंढने निकले और वह मिले नहीं।  कईयों को हम देखते हैं पर उन्हें अपना फेसबुक दिखाने नहीं जाते।  भूले बिसरे लोगों को ढूंढ निकाला। उम्र की कोई सीमा नहीं देखी।  सतर से अस्सी वर्ष के  लोगों को फेसबुक से ढूंढ निकाला। हम सतत फेसबुक नहीं बैठते-समय नहीं ढूंढते, मिलता है तो बैठ जाते हैं।
                    हमारी राय में फेसबुक पर मनोविज्ञान का अध्ययन सहजता से किया जा सकता है। दोनों फेसबुक पर एक मजेदार बात हमने देखी है। निजी संपर्क वालों में एक पहचान और सार्वजनिक संपर्क वाले पर दो मित्र महिलाओं की सौम्य, सुंदर तथा आकर्षक तस्वीरों डालते हैं। दोनों की उम्र समान होगी पर जातीय पहचान अलग है। इनकी तस्वीरें एक ही दिन में एक से दस तक हो सकती हैं। तय बात है कि यह लोग स्वयं उनका संग्रह नहीं करते बल्कि यहीं अंतर्जाल से निकालते होंगे। जब हम अपनी  घरेलू स्तंभ देखते हैं तो एक दो पोस्ट के बाद इनकी तस्वीरें आती रहती हैं। अगर कोई इनकी उम्र देखे तो शायद व्यंग्यात्मक टिप्पणी भी कर सकता है पर हम जैसे सकारात्मक विचार वाले तो इनके प्रयासों की सराहना ही करेगा। यह हमें श्रृगार रस का असमय सेवन कराते हैं जो बोझिल वातावरण को भी रसदार बना देता है।  बस एक ही विचार आता है यार यह इतनी सारी तस्वीरों लाते कहां से हैं? हम पूछते नहीं क्योंकि लगता है कि उनक अंतर्जाल साधना बाधित न हो। हम शब्दप्रेमी हैं और पढ़ने लिखने में ही हमारी रुचि है फिर भी इतना जरूर कहना चाहेंगे कि ऐसे माननीय लोग सदाबहार बने रहें।

Friday, April 14, 2017

अमेरिका के बम का विज्ञापन हमें तो अच्छा लगा-हिन्दी संपादकीय (America MOABBomb Add is Good-Hindi Editorial)

                                           अमेरिका ने अफगानिस्तान में क्या बम गिराया उससे सन्नाटा भारत में छा गया है। अरे भई, यह अमेरिका नये नये हथियार बनाता है और फि र ऐसी जगहों पर प्रयोग करता है जहां से प्रतिरोध की कोई संभावना नहीं है। अमेरिका कभी उत्तर कोरिया पर हमला नहीं करेगा क्योंकि वहां से प्रतिकार की संभावना है।  यह तो अमेरिका भी कह रहा है कि उसने बमों की मां प्रयोग के लिये अफगानिस्तान में गिरायी है। भारत के लोग ऐसे सहम गये हैं जैसे कि कहीं अमेरिका नाराज होकर हम पर हमला न कर दे। अमेरिका अपने दुश्मनों से कोई लड़ायी नहीं जीता। उसने हमेशा ही अपने ऐसे लोगों को निपटाया है जो उसके कभी मित्र थे-हिटलर, सद्दाम हुसैन, कद्दाफी और लादेन कभी अमेरिका के गोदी में बैठे थे। इनको भी अकेले नहीं निपटाया वरन् मित्र देश उसके साथ रहे। अकेले लड़कर वियतनाम में अमेरिका बुरी तरह से हार चुका है।  लगभग यही स्थिति चीन की भी है उसे भी वियतनाम युद्ध में मुंह  की खानी पड़ी थी।  भारतीय नेता चतुर हैं वह अमेरिका से मित्रता तो करते हैं पर उसकी गोदी में नहीं बैठते। फिर भारत की सैन्य क्षमता अमेरिका से थोड़ी ही कम होगी। बहरहाल इस बम को एक विज्ञापन ही समझो। उसने बीस हजार करोड़ खर्च कर 36 आतंकी मारे-इस दावे को कोई प्रमाण नहीं है। अब इस बम को बेचने की करेगा। 

ट्रम्प ने चुनावों में कहा था कि अमेरिका उनके लिये पहले हैं और वह दूसरे देशों की मदद में अपना समय और पैसा बर्बाद नहीं करेंगे।  कुछ लोग कहते हैं कि दुनियां भर में इंसानी मुखौटे राज्य कर रहे हैं पर उनकी डोर खुफिया एजेंसी के हाथ में होती है।  ट्रम्प ने भी देख लिया कि राजकाज से सीधे जनता का भला तो हो नहीं सकता इसलिये अपनी राष्ट्रवादी छवि बचाये रखने के लिये खुफिया एजेंसियों की मात मान लो। वैसे हमें यह विज्ञापन अच्छा लगा। सुनने में आ रहा है कि भारत का भी एक लड़का इसमें मरा है पर इसकी पुष्टि नहीं हुई है। हम सोच रहे थे कि इस विज्ञापन से कहीं न कहीं भारतीय लोगों को भी प्रसन्न करने की कोशिश जरूर होगी। सच क्या है? यह तो हमें पता नहीं  पर इतना तय है कि इससे कोई बड़ा युद्ध नहीं भड़केगा।  तीसरे विश्व युद्ध की संभावनाये तो बिल्कुल नहीं है।

Monday, March 27, 2017

हमने तो यादों का खजाना संभाला था=छोटीकविताये एवं क्षणिकायें (Hamne yandon ka khazana sanbhala thaa-Short HindiPeom)

दिमाग बंद कर
दिल का दरवाजा
खोला नहीं जाता।
हादसों में घाव का
बहता रक्त
तोला नहीं जाता।
--------
सुंदरता के सभी दीवाने
दिल की बात
समझे कोई नहीं।
झील से गहरी आंखों पर
मरने वाले न जाने
वह सोई नहीं।
------
हमने तो यादों का
खजाना संभाला था
पर उनके दिल पर ताला था
भटके ज़माने में 
कौन उन्हें
समझाने वाला था।
--------------
उनके कंधों पर उम्मीद रखी
यही हमारा कसूर है।
नतीजा अब यह कि
दिल से यकीन दूर है।
---------
अगर फूलों के रंग होते
हम भी होली मना लेते।
भावनाओं के तार मिलते
प्रेम की झोली बना लेते।
--------- 
दिल की पहचान नहीं
दिमाग से प्यार करें।
जज़्बातों को छू नहीं पायें
आंखों में नकली प्यार भरें।
-
खिलाड़ी भी बिकते हैं,
महंगे हों वही टिकते हैं।
बाज़ारवाद के दौर में
बंधुआ आजाद दिखते हैं।
-
फुर्सत नहीं मिलने का
बहाना हमेशा करते हैं।
मुफ्त की मुलाकातों से
वह शायद डरते है।
----
कपड़े के रंग से बनाते छवि
वह कैसे फकीर हैं।
राजस्व की लूट से बने
वह कैसे अमीर हैं।
-----
इशारे क्या समझेंगे
शब्दों को ही नहीं समझ पाते।
वह खुश हैं ज़माने से
कहे जो नासमझ जाते।
------------
इश्क के किस्से भी
रोज सुनाये जाते हैं।
आज भी मरे आशिक
नकदी से भुनाये जाते हैं।
-
अपनी प्रतिष्ठा गंवाकर
दूसरे की निंदा करते हैं,
इस तरह आत्मसम्मान
वही जिंदा करते हैं।

Friday, March 24, 2017

हिन्दी भाषा में रोमियो शब्द के तीन आशय होते हैं-हिन्दी व्यंग्य चिंत्तन (Three meaning in Hindi Languvase-Hind Satire Thought)

                                         हिन्दी भाषा में किसी भी संज्ञा के तीन अर्थ होते हैं।  किसी भी शब्द का  अर्थ तथा भाव प्रसंग की अनुसार लिया जाता है। हम यहां उत्तरप्रदेश में चल रहे एंटी रोमियो अभियान का मजाक उड़ाने वाले प्रगति तथा उलटपंथियों के हिन्दी ज्ञान पर ही सवाल उठा रहे हैं क्योंकि वह शेक्सिपियर को अपना आदर्श मानते हैं और उनके एक पात्र का अपमान सहन नहीं कर रहे।  विश्व में हिन्दी एकमात्र ऐसी भाषा है जो जैसी बोली जाती है वैसी लिखी जाती है यह कहा जाता है पर हमारा मानना है कि इसमें शब्दों के भाव वैसे नहीं होते जैसे बोले जाते हैं वरन् यह उन प्रसंगों का संदर्भ तय करता है।
                      हम अपनी दृष्टि से रोमियो ही नहीं वरन् मजनूं और रांझा के परिप्रेक्ष्य में भी इन्हें मान सकते हैं। हम रोमियो का शाब्दिक आशय लें तो वह शेक्सिपियक के नाटक का एक पात्र है जिसने जूलियट से प्रेम किया था।  
                        लाक्षणिक अर्थ तब आता है जब कोई प्रेमिका अपने प्रेमी से कहे-‘वाह रे मेरे रोमियो।’ यहां उसके प्रेमी का नाम रोमियो नहीं है पर वह लक्षणों से उसकी पहचान बता रही हैं।
             तय बात है कि व्यंजन विधा में उस तरफ इशारा किया जाता है जहां किसी के प्रेम का मजाक उड़ाना हो। प्रेमी तब तक प्रेमी नहीं माना जा सकता जब तक प्रेमिका ने उसका प्रणय निवेदन स्वीकार नहीं किया है। ऐसे में उसका नाम न रोमियो है न ही उसके लक्षण प्रेमी जैसे हैं तब उस पर रोमियो की ताना जड़कर मजाक उड़ाया जा रहा है।  हमारे यहां साहित्य विधा में व्यंजना शैली का बहुत महत्वपूर्ण हैं।  संस्कृति तथा हिन्दी में अनेक महान लेखक तो ऐसे हैं कि उनकी हर रचना तीनों विधाओं में एक साथ पूर्ण लगती है। यह पढ़ने वाले पर है वह कितना प्रखर है?  सजग पाठक हमेशा व्यंजना शैली में अर्थ लेता है क्योंकि वही उसके व्यक्तित्व निर्माण में सहायक होती है। वह इस तरह रचना को पढ़ता है जैसे वह उसमें से अपने लिये ज्ञान बढ़ा सके।  जहां हिन्दी, हिन्दू और हिन्दुस्तान की बात करें तो यहां अध्यात्मिक रूप से राधा कृष्ण का प्रेम ही सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है। इस प्रेम की व्याख्या तीनों विधाओं में होती है तो अध्यात्मिक ज्ञानी भी इसके पवित्र भाव की व्याख्या करते हैं।
              सीधी बात कहें तो उत्तरप्रदेश में रोमियो शब्द से आशय उन लोगों की तरफ है जो इकतरफा प्रेम की चाहत में लड़कियों को परेशान करते हैं और व्यंजना विधा में इसे एंटरोमियो अभियान नाम दिया गया है। इसके शाब्दिक या लाक्षणिक अर्थों पर बहस एक बकवास लगती है। हालांकि इस बहाने प्रगति तथा उलटपंथी यह बताना नहीं भूल रहे कि वह विदेशी साहित्य के महान ज्ञाता है।
---------
                      पहले भारत फिर अमेरिका और अब उत्तरप्रदेश में सत्तापरिवर्तन ने पाक के मीडिया को भारी बेचैन कर दिया है। हैरानी इस बात की है कि जिस हिन्दू धर्म या संस्कृति का अपना नंबर एक दुश्मन मानते हैं वह स्वाभाविक रूप से उसका हिस्सा हैं पर स्वयं को अरेबिक संस्कृति से जुड़ा दिखना चाहते हैं। बात धर्म की करते हैं पर उनको यह मालुम नहीं कि एक अरबी और एक हिन्दू जब आपस में कहीं मिलेंगे तो वह धर्म की बजाय अन्य विषयों पर स्वाभाविक विचार विमर्श करते हें। अरब की धार्मिक विचाराधारा के पाकिस्तानी अनुयायी इस भ्रम में है कि उनकी संस्कृति भी अरबी है या होना चाहिये-अरब वाले इनको अरेबिक मानते नहीं और यह स्वयं को हिन्दू कहना नहीं चाहते। इस अंतर्द्वंद्व ने पाकिस्तानियों की मानसिक रूप से वहां के विद्वानों को भी विक्षिप्त कर दिया है।  वहां का उदार विचारक भी भी हिन्दू के प्रति सद्भाव दिखाने में हिचकता है्र्र-वह भी हिन्दू संस्कृति के उज्जवल पक्ष को नहीं देखता। पाकिस्तानियों को विचार विमर्श देखकर हमें लगता है कि हमें कभी उनसे सद्भाव की आशा नहीं करना चाहिये।

Saturday, March 11, 2017

चुनाव परिणाम पर जाति, धर्म तथा भाषा की दृष्टि से विचार करना गलत-हिन्दी संपादकीय (Religion,Cast amd Languvase not Effect on Election-HindiEditorial)


                                भारत के पांच राज्यों में चुनाव होने के बाद देशभर में प्रचार परिणामों का विश्लेषण परंपरागत ढंग से  सतही रूप से समाज को जातिपाति, धर्म तथा भाषायी  आधार पार बांटकर कर रहे हैं। कम से कम फेसबुक पर यह उम्मीद तो करते हैं कि यहां सक्रिय मित्र जनमानस का सही विश्लेषण करेंगे पर लगता नहीं कि ऐसा हो रहा है। भक्तगण उत्तर प्रदेश में अपने दल की जीत पर सीना फुला रहे हैं। वहां के मुस्लिम मतदाताओं को वह जिस तरह देखते हैं उस पर हमें आपत्ति होती है। हम स्वयं भारतीय अध्यत्मिकवादी हैं पर जब सांसरिक विषय में अपना हित सार देखते हैं। इसी कारण हमारा मानना है कि आमतौर से भारतीय धार्मिक, जातीय तथा भाषायी समूहों में बंधे रहना पसंद करते हैं पर जब राज्य प्रबंध का विषय हो तो वह केवल इस आशा से मतदान करते हैं कि उनकी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये बेहतर सड़कें, शुद्ध पानी तथा नियमित बिजली के लिये बेहतर राज्य प्रबंध की आशा करते हैं।
                     आजादी के बाद से ही देश में राजनीति, पत्रकारिता तथा अन्य जनसंपर्कीय क्षेत्रों में ऐसे लोग सक्रिय रहे हैं जो पूरे समाज को सतही दृष्टि से देखकर यह मानते हैं कि वह गहन चिंत्तक हैं-वह स्वयं आमजन की बजाय एक विद्वान की तरह सोचने के साथ ही बोलते और लिखते दिखना चाहते हैं जिससे सब गड़बड़ हो जाता है। समस्या यह है कि भक्तों का विद्वान समूह उनका विरोध तो करता है पर उसकी विचारशैली कमोबेश उन जैसी ही है-यही से ही हम जैसे अध्यात्मिक चिंत्तकों की राह उनसे अलग हो जाती है। पांच राज्यों में लोगों ने मतदान बेहतर राज्य प्रबंध की आशा से किया है। कट्टर भारतीय अध्यात्मिकवादी होने के बावजूद हम कहते हैं कि चाहे भी जिस भाषा, जाति, धर्म या वैचारिक समुदाय का सदस्य हो उसने अपनी प्रतिबद्धता केवल राज्य से दिखाई है।
               भारत में वैचारिक धाराओं का प्रवाह सदैव ऋषियों, मुनियों तथा तपस्वियों ने ही किया है। अनेक राजाओं ने भी राजधर्म का निर्वाह कर लोगों को अभिभूत किया पर उनकी प्रतिष्ठा किसी विचारधारा की वजह से नहीं होती। हम भगवान राम की बात करते हैं पर उनकी छवि भी अध्यात्मिक तत्व की प्रबलता के कारण है-उन्होंने राज्य का त्याग कर एक ऐसी छवि बनायी जिसका उदाहरण नहीं मिलता। भगवान कृष्ण भी अध्यात्मिक तत्व के कारण पूजे जाते हैं न कि द्वारका के राजा होने के कारण उन्हें भगवान कहा जाता है। मूल बात यह है कि राजसी विषय में सात्विक तत्व के साथ काम करना चाहिये पर इसका आशय यह कतई नहीं है कि देवों की तरह पुजने के लिये प्रचार में रत रहा जाये। हमारा मानना है कि आम भारतीय जनमानस अन्य देशों की अपेक्षा अधिक अध्यात्मिक तत्व से भरपूर है। अतः यहां जात पात या धर्म के आधार पर मतदान होने की बात कहना स्वयं को धोखा देना है।
----------

लेखक एवं कवि-दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप,
ग्वालियर मध्यप्रदेश
writer and poet-Deepak raj kukreja "Bharatdeep",Gwalior madhya pradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक ‘भारतदीप’,ग्वालियर   

athor and editor-Deepak  "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com

Wednesday, March 8, 2017

प्रचार में बगदादी तब तक रहेगा जब कोई दूसरा विज्ञापन बिकवाने नहीं आ जाता-हिंदी संपादकीय (Baghdadi bagdadi and osama bin laden nececsary for world media with indian News Chainal-Hindi Editorial)

                 ओसामा बिन लादेन तब तक प्रचार में जिंदा रहा जब तक प्रचार प्रबंधकों को यह लगा कि वह उनके लिये समाचारों पर सनसनी बनाये रखने के लिये उसका नाम जीवंत होना जरूरी है। जब बगदादी का नाम स्थापित हो गया तब उसे पाकिस्तान के एबटाबाद में एकाउंटर में उसे मरा बताया। लादेन को कितनी बार मीडिया ने मरा बताकर फिर उसे जिंदा बताया।  अब यही हाल बगदादी का है। उसे कम से कम दस बार मृत घोषित कर फिर उसे जीवित बताकर लगातार सनसनी बिक रही है। हमें तो लगता है कि बगदादी नाम का कोई व्यक्ति ऐसा हुआ ही नहीं होगा जो इतना बड़ा आतंकवादी संगठन चलाये। इराक, सीरिया तथा लीबिया में सरकारों के पतन से वहां अपराधी गिरोह बन गये होंगे जिन्हें अमेरिका, रूस तथा अन्य राष्ट्र हथियार राजस्व कमाते हैं-अब यह सिद्ध भी हुआ है कि वहां अमेरिका तथा रूस कहीं न कहीं आतंकवादियों के सहायक हैं। हमारा तो मानना है कि लादेन भी बहुत पहले मारा गया था पर जब बगदादी का अभ्युदय तब उसे मरा बताया। अब बगदादी भी तब तक रहेगा जब कोई तीसरा नहीं आ जाता।
        इस पूरे विश्व पर ‘प’ समूह-पूंजीपति, प्रचारक, प्रबंध तथा पतितों के मिलेजुले संगठन-चला रहे हैं। पूंजीपति  पतितों  की आड़ में अपने धंधे चलाते हैं तो उनका भय दिखाकर अपनी ताकत प्रचार माध्यमों में दिखाते हैं। इतना ही नहीं इनकी ताकत इतनी ज्यादा है कि अनेक जगह राज्यप्रबंधक भी इनका साथ निभाते हैं।  इसलिये ओसामा बिन लादेन हो या बगदादी या अन्य खलनायक इतने खूंखार, चतुर और बाहूबली न हों जितने बताये जाते हैं। मजे की बात यह कि ऐसे लोग कहीं न कहीं कभी किसी देश के राज्य प्रबंधकों के सपंर्क रखते हैं और बाद में उनमें बिगाड़ होने पर निशाना बनते हैं। इनका नाम पहले खलनायक की तरह पकाया जाता है ताकि कोई नायक उसे खाकर प्रचार माध्यमों  में विज्ञापन प्रसारण के बीच समाचार बनाता है।  कम से कम हम जैसे चिंतक तो यही सोचते हैं।

Monday, February 27, 2017

क्या अभिव्यक्ति की आजादी केवल पाकिस्तान के समर्थन पर ही टिकी है-हिन्दी व्यंग्य चिंत्तन (What Against Agitation for Nationalism based on Supoort of Pakistan-Hindi Satire Thought Article)

                                               सुना है दिल्ली में कोई अभिव्यक्ति की आजादी वाजादी पर आंदोलन चल रहा है।  पहले बिहार में जब चुनाव होने वाले थे उस समय असहिष्णुता पर अभियान चला था। उत्तरप्रदेश में चुनावों को देखते हुए यह अभियान पहले चलना था पर लगता है इसके लिये नायक और नायिकाओं का चयन देर से हुआ। एक मजेदार बात यह है कि राष्ट्रवादियों के विरोधी हमेशा ही कहीं न कहीं पाकिस्तान का समर्थन जरूर करते हैं। इस बार एक शहीद की संतान ने बताया कि पाकिस्तान ने उसके पिता को नहीं मारा। बवाल मचना था मच गया।
                राष्ट्रवादियों का मुकाबला हमेशा ही जनवादी करते हैं और यह समझ में नहीं आता कि वह अपने अभियान में पाकिस्तान के समर्थन का संकेत अवश्य क्यों देते हैं?  पीछे से प्रगतिशील भी आ जाते हैं। ऐसे में सवाल यह है कि इनकी आजादी की अभिव्यक्ति केवल पाकिस्तान के खुलेआम तक ही सीमित क्यों होती है? इसका मतलब यह है कि यह लोग भी प्रचार चाहते हैं। इन्हें उम्मीद है कि जब आगे कभी प्रगतिशील सरकार आयी तो शायद उनको कोई सम्मान वगैरह मिल जायेगा-संभव है संयुक्त अरब अमीरात में कहीं नौकरी या सेमीनारों के लिये बुलावा आने लगे। यह भी संभव है अभी राष्ट्रवादियों के विरोधी इन्हें धन वगैरह देते हैं-हमारा मानना है कि बिना अर्थ के आजकल हम जैसा मुफ्त में लिखने वाला लेखक भी किसी से प्रतिबद्ध होकर नहीं लिखता तब यह लोग क्या दूसरें के लिये जूझेंगे-इस उम्मीद में कि उनका प्रभाव बना रहे। फिर प्रचार माध्यमों का भी ऐसी कथित संवदेनशील बहसों पर विज्ञापन का समय भी पास हो जाता है। सबसे बड़ी बात यह कि पाकिस्तान का समर्थन किये बिना राष्ट्रवादियों के विरोधियों को प्रचार नहीं मिलता इसलिये कहीं न कहीं से वह जानबूझकर ऐसा करते हैं।
                    बहरहाल इस तरह राष्ट्रवादी और उनके विरोधी जनवादी अपने प्रगतिशील साथियों के साथ समाचारों और बहसों में आकर टीवी चैनलों के विज्ञापन का समय खूब पास करते हैं।  खासबात यह कि हिन्दी चैनलों में इसे आजकल उत्तर प्रदेश के चुनावो की वजह से कम महत्व मिल रहा है जबकि अंग्रेजी चैनल इस पर हल्ला मचा रहे हैं। जनवाद और प्रगतिशीलों समर्थक यह अंग्रेजी चैनल अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी निष्पक्षता दिखा रहे हैं पर हमारा मानना है कि जिस तरह ट्रम्प ने आक्रामकता दिखाई है उसके चलते राष्ट्रवादियों को बदनाम नहीं कर पायेंगे। हां, हम ऐसे उत्साही जवानों को यह बात बता दें कि राष्ट्रवादियों के  विरोध के चलते अब उनको संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब में नौकरी या सेमीनारी मिलने की संभावनायें अब न के बराबर हैं क्योंकि दोनों ने अब उनके साथ मित्रता बना ली हैं। हालांकि इनका यह भ्रम कब टूटेगा कि राष्ट्रवाद का विरोध पाकिस्तान के समर्थन पर ही टिका है।

Thursday, February 23, 2017

महाराष्ट्र के निकाय चुनाव परिणामों में दक्षिणपंथ (राष्ट्रवाद) का अभ्युदय-हिन्दी संपादकीय (Maharashtra Local Boddy Election and varios Thought of Politics-Hindi Editorial)



                                     महाराष्ट्र के नगर निकायों के चुनाव परिणाम का विचाराधारा के आधार पर शायद ही मूल्यांकन कोई करे क्योंकि दक्षिणपंथी (राष्ट्रवादी) जहां जीत के नशे में डूब जायेंगे वहीं प्रगतिशील तथा जनवादी विद्वान अपना मुंह फेर लेंगे। हम जैसे स्वतंत्र लेखकों के लिये चुनाव का विषय इसलिये दिलचस्प होता है क्योंकि विचाराधाराओं के संवाहक इन्हें केवल वहीं तक ही सीमित रखते हैं। चुनाव तक लेखक विद्वान अपनी सहविचारधारा वाले संगठनों को बौद्धिक सहायता देते हैं और बाद में फिर उसी आधार पर उन्हें सम्मान आदि भी  मिलता है। यह चुनाव राज्य प्रबंध के लिये होता है पर उसका संचालन अंग्रेजों की पद्धति से स्वाचालित है जिसमें कभी परिवर्तन नहीं आता भले ही चुनाव में उसका दावा किया जाये। जो चुनाव लड़ते हैं उनका विचाराधारा से लगाव तो दूर उसकी जानकारी तक उन्हें नहीं होती। जिन विद्वानों को जानकारी है वह केवल प्रचार तक ही सीमित रहते हैं। चुनाव बाद राज्य प्रबंध का रूप बदलने की बजाय उसके उपभोग में सब लग जाते हैं। 
                              बहरहाल महाराष्ट्र के चुनाव परिणाम समाजवाद और वामपंथियों के लिये भारी झटका है।  एक तथा दो नंबर के दोनों दल दक्षिणपंथ के संवाहक मान जाते हैं।  मुंबई शहर में सभी विचारधाराओं के विद्वानों के जमावड़ा रहता है। प्रगतिशील तथा जनवादी देश की आर्थिक राजधानी में रहकर गाहेबगाहे धर्मनिरपेक्षता के लिये सेमीनार करते हैं जिनका दक्षिणपंथी लोग विरोधी करते है। तब जनवादी व प्रगतिशील लोग भी आकर डटते हैं।  देखा जाये तो नगर निकायों के चुनाव ने समाजवाद तथा वामपंथ विचाराधारा को मरणासन्न हालत में पहुंचा दिया है। कथित धर्मनिरपेक्षता, समाजवाद और गरीबों के लिये उद्धारक विचाराधारा के संवाहकों के लिये अब वहां सांस लेना मुश्किल होगा। दक्षिणपंथी अब संख्या में दोगुने हो गये हैं तो समाजवादी और जनवादियों नगण्य रह गये हैं। मूलतः जनवादियों को समाजवादियों का ही कहार कहा जाता है। जनवादियों का देश में वर्चस्व अधिक नहीं है पर समाज को गरीबों, मजदूरों, नारियों, बच्चों तथा वृद्धों के वर्गों में बांटकर उससे बहलाकर राज्यप्रबंध हासिल करने में वह समाजवादियों के सहायक रहे हैं।  हम मानते हैं कि वैसे तो हमारे देश आम जनमानस कभी वर्गों में बंटकर मतदान नहीं करता पर प्रचार माध्यमों में भी इन विचाराधाराओं के विद्वानों का वजूद अधिक है इसलिये यह सच कोई नहीं बताता-यहां तक दक्षिणपंथी भी इससे बचते हैं क्योंकि कहीं न कहीं क्षेत्र, भाषा तथा धर्म की आड़ में वह भी अपने संगठन चलाते हैं, जबकि इनका मुख्य साथी मध्यम वर्ग हैं जिसे कोई भी विचाराधारा अपनत्व नहीं दिखाती। 
                    एक स्वतंत्र लेखक के रूप में अब हमारे सामने दक्षिणपंथी (राष्ट्रवादी) संगठन हैं जिनसे हम यह पूछना चाहते हैं कि कथित रूप से देश में हिन्दूओं की संख्या घट रही है तो फिर उन्हें चुनावों में लगातार कैसे इतनी सफलता मिल रही है? जवाब भी हम देते हैं कि वह भी जनवादियों और समाजवादियों की तरह भ्रमित न रहें-जिन्होंने हमेशा ही समाज को वर्गो में बांटकर उसका भला करने का ढोंगे किया। देश सदियों तक गुलाम रहने का इतिहास तो यह दक्षिणपंथी बताते हैं पर यह समझें कि यह तत्कालीन अकुशल राज्य प्रबंध के अभाव के कारण हुआ था।  अंग्रेजी पद्धति से चल रहा शासन देश के अनुकूल नहीं है इसलिये एक नये प्रारूप का राज्य प्रबंध होना चाहिये-यही महाराष्ट्र के निकाय चुनावों का संदेश है। यह लेखक मूलतः भारतीय अध्यात्मिकवादी विचाराधारा का है फिर भी यह मानता है कि लोग चाहे किसी वर्ग या धर्म से हो वह बेहतर राज्य प्रबंध के लिये मतदान करता है। यह जातपात या भाषा का आधार ढूंढना ठीक नहीं है। यह भी साफ कहना चाहते हैं कि अभी भी दक्षिणपंथियों (राष्ट्रवादी) को अपनी कुशलता राज्य प्रबंध में दिखानी है-उन्हें यह नहीं समझना चाहिये कि वह अपने लक्ष्य मध्यम वर्ग की सहायता के बिना इस तरह प्राप्त कर लेंगे। साथ ही यह भी कि उनकी राज्य प्रबंध में नाकामी भारतीय संस्कृति, धर्म तथा कला को भारी हानि पहुंचायेगी।
---------

Sunday, February 12, 2017

अमेरिका में राजनीतिक परिवर्तन से मची उथलपुथल के निहितार्थ-हिन्दी संपादकीय (meaning of political cheng in America-Hindi Editorial)

                                    अभी तक हम जनवादियों के अमेरिकी साम्राज्यवाद पर निरंतर प्रवचन सुनते थे।  अमेरिका एक पूंजीपति तथा साम्राज्यवादी देश है-यह भ्रम जनवादियों ने भारत में खूब फैलाया है।  अब जिस तरह ट्रम्प अप्रवासियों के विरुद्ध अपनी ही न्यायापालिका से जूझ रहे हैं उससे हमें लगता है कि यह भ्रम था।  दरअसल दुनियां भर के शिखर पुरुष अपनी पूंजी एकत्रित कर अमेरिका में ले जाते और वहां अपना निवास आदि बनाने के साथ पर्यटन भी करते थे। अब तो अमेरिका में ही अर्थविशेषज्ञ कह रहे हैं कि हमारा पूरा ढांचा ही विदेशी मेहमानों पर निर्भर है।  हमने देखा भी होगा कि हमारे सामाजिक, आर्थिक, कला, सिनेमा तथा पत्रकारिता के शिखर पुरुष अमेरिका जाकर वहां की अर्थव्यवस्था को ही मजबूत करते हैं। अगर कभी किसी की तलाशी हो जाये तो यहां ऐसा शोर मचता है जैसे कि अमेरिका हमारे देश को कोई प्रांत हो
                                        वैसे हमने ब्लॉग पर अनेक लेखों में इस भ्रम पर अपना विचार व्यक्त किया था। अमेरिका में कोई भारतीय बड़े पद पर पहुंच जाये या कोई सम्मान पाये तो यहां ऐसे जश्न मनता है जैसे कि कोई बड़ा तीर मार लिया है। यहां तक नोबल के आगे भारत रत्न और ऑस्कर के आगे फिल्म फेयर सम्मान की कोई औकात ही नहीं मानी जाती। अमेरिका को सामा्रज्यवादी मानना ही दरअसल जनवादियों की देश में व्याप्त गुलामी की मानसिकता का पालन पोषण करना रहा है। यहां तक जनवादियों के दो इष्ट पुरुष चीन का राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस का पुतिन भी अपना पैसा वहां भिजवाता है-पनामा लीक्स में इनका भी नाम है। कभी जनवादियों ने अपने पूंजीपतियों के अमेरिका में पैर पसारने का जिक्र नहीं किया इससे संशय तो होता ही है। हमने अपने लेखों में तो यहां तक लिखा है कि अमेरिका तो विश्व के पूंजीपतियों का उपनिवेश है जहां से वहां अपना नियंत्रण सभी देशों पर रखते हैं-यही उसके शक्तिशाली होने का राज भी है।
                           जिस तरह ट्रम्प के सात देशों के नागरिकों पर बैन लगाया गया है और उस पर पूरे विश्व में प्रदर्शन हो रहे हैं उससे तो लगता है कि पूरा विश्व उसका उपनिवेश है। अमेरिका देश नहीं वरन् विश्व के उन पूंजीपतियों की राजधानी है जहां से पूरा विश्व संचालित है।  जनवादी अमेरिकी साम्राज्यवाद की बात करते हैं जो कि उनका ही गढ़ा हुआ कल्पित पात्र लगता है। जनवादी भी ट्रम्प के निर्णय का विरोध कर रहे हैं-इसका आशय यह है कि वह मानते हैं कि अमेरिका पूरे विश्व का बाप है और प्रतिबंध लगाकर वह अपने सात बच्चों के साथ अन्याय कर रहा है। कहीं ऐसा तो नहीं कि अमेरिकी साम्राज्यवाद की वह कल्पित धारणा खंडित हो रही है जिसके आधार वामपंथी विश्व भर के जनमानस को बौद्धिक संशय में डाल कर अपने हित साधते थे। सबसे बड़ी बात यह कि अपने ही देश के निर्णय के विरुद्ध अमेरिका के अनेक बौद्धिक भी खड़े हुए हैं जिनको लगता है कि पूरा विश्व ही उनका उपनिवेश है और यह रोक उनके महान होने की छवि पर सवाल खड़े करती है-उससे ज्यादा उनका स्वयं के महान होने की छवि का भ्रम खंडित हो रहा है।
                                 अमेरिका के नये राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने प्रचार माध्यम तथा अरेबिक आतंकवाद के विरुद्ध एक साथ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने  आरोप लगाया है कि कम से कम 72 अरेबिक धार्मिक आतंकवादी घटनाओं को मीडिया ने छिपाया।  हमें नहीं मालुम कि वह कौनसी घटनायें हैं पर फेसबुक पर अनेक बार यजीदी, कुर्दिश तथा ईसाई महिलाओं के साथ इराक तथा सीरिया के आतंकवादियों की भयानक बदतमीजी की घटनायें समाचार बनी पर अंतराष्ट्रीय प्रचार माध्यमों ने उन्हें नहीं बताया। हमें भी कई बार लगा कि यह शायद अरेबिक धर्म को बदनाम करने के लिये प्रचारित हुईं हैं पर ट्रम्प के बयान से लगता है कि यह सच है।
                               कुछ लोग यह सवाल उठा सकते हैं कि आखिर अल्जजीरा, सीएनएन और बीबीसी वाले ऐसे समाचार क्यों दिखायें? समूचा अरब जगत कोई इनके समाचार क्षेत्र में आता है क्या?
                                         हमारा जवाब है कि जब अरेबिक लोगों पर प्रतिबंध के बाद इराक के बीमार बच्चे का अमेरिका आना बाधित होने पर जब यह चैनल हाहाकार मचा रहे हैं तो फिर यह बात भी कही जा सकती है कि इराक का एक बच्चा जब समाचार क्षेत्र के दायर में सकता है तो हजारों यजीदी तथा कुर्द महिलाओं के साथ बदसलूकी तथा उनकी हत्या का समाचार क्यों नहीं सकता?
                                      एक बात तय रही कि ट्रम्प ने साबित कर दिया है कि वह मीडिया की वह परवाह नहीं करते। जब से आये हैं तब से अमेरिका सहित पश्चिमी जगत के समूचे मीडिया में उनका नाम एक दबंग छवि का पर्याय बन गया है। प्रसंगवश भारत में भी हिन्दू धार्मिक संगठन प्रचार माध्यमों पर ऐसे ही आरोप लगाते हैं जिसमें कहीं कोई एक गैर हिन्दू पर प्रहार हुआ तो बिना जानकारी के प्रचार माध्यम हिन्दू संगठनों पर हमला करते देते हैं जबकि कहीं एक साथ हिन्दुओं पर सामूहिक हमला होता है तो प्रचार माध्यम खामोश रहते हैं-हमारे पास कोई प्रमाण नहीं है पर  अपनी फेसबुक की दीवार पर अनेक ऐसे संदेश देखे हैं जिस पर यकीन करें या नहीं समझ में नहीं आता।
----

अध्यात्मिक पत्रिकाएं

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips