समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका
-------------------------


Saturday, May 30, 2015

अदृश्य दैत्य के लिये अप्रकट देवता की आवश्यकता-हिन्दी व्यंग्य चिंत्तन लेख(drishya daitya ke liye aprakat devta ke aavashyakata-hindi thought article)

अभी हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय फुटबाल नियंत्रण संस्था के उच्च पदाधिकारियों के भ्रष्टाचार में लिप्त होने की बात सामने आयी है। हमारे देश में जब क्रिकेट में भ्रष्टाचार की चर्चा होती है तो खेलप्रेमियों का हृदय ग्लानि से भर जाता है पर जब वैश्विक प्रचार माध्यम टेनिस, फुटबाल और मुक्केबाजी में भी कदाचार की बात कहते हैं तब हैरानी होती है। हमारे देश में क्रिकेट तो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर फुटबाल, टेनिस और मुक्केबाजी में परिणाम पूर्व से तय करने के आरोप लगते रहते हैं।
आमतौर से भ्रष्टाचार और राजस्व चोरी का विषय राजकीय संस्थाओं से ही जोड़ा जाता रहा है। हमारे अध्यात्म दर्शन में इसकी चर्चा है जिससे यह समस्यायें आदिकाल से ही चली आ रही हैंे यह माना जा सकता है। राजकीय कर्मियों के भ्रष्ट होने की बात पुरानी थी इसलिये आश्चर्य नहीं होता पर आधुनिक समय में  कला, साहित्य, पत्रकारिता, फिल्म और टीवी क्षेत्र में भी शिष्टाचार की आड़ में अनिष्टाचार की बात सामने आती है।  आधुनिक आर्थिक, सामाजिक, खेल तथा धार्मिक संगठनों में ऐसी घटनायें सामने आ रही हैं जिसे भ्रष्टाचार की श्रेणी में रखा जाने लगा है। दरअसल पूरे विश्व में कंपनियों के नाम पर ऐसे आर्थिक समूह बन गये हैं जिनके शिखर पर चरित्रवान का मुखौटा पहने ऐसे लोग विराजमान हो गये हैं जिनका संचालन काली नीयत वाले लोग करते हैं। वामपंथी विचारक कंपनी को एक दैत्य मानते हैं जो कि प्राचीन खलनायकों से ज्यादा शक्तिशाली होता है। जब पूरे विश्व में धार्मिक महानायकों के चरित्र पर दृष्टिपात करते हैं तो उनके सामने एक खल मनुष्य जरूर होता है जिसे वह परास्त कर समाज का उद्धार करते रहे हैं।  वह देहधारी के रूप में खलनायक से जूझते दिखते हैं इसलिये समाज उन्हें अपनी आंखों में उतार लेता है।  कंपनी नाम है पर उसका वास्तविक संचालक अदृश्य है। जो दिख रहा है वह संचालक पर्दे के पीछे से मिल रहे इशारे पर चलता है।  इसलिये इस ढांचागत दैत्य के  वास्तविक स्वामियों को पहचानना सहज नहीं है। इस अदृश्य कंपनी दैत्य के विरुद्ध-जिसे सफेदपोश मुखौटे और काली नीयत वाले चालाक इंसानों का अ अप्रकट संयुक्त उपक्रम भी कहा जा सकता है-कोई अदृश्य देवता लाना मुश्किल ही लगता है। खासतौर से विश्व में पूरे धर्मभीरु लोग यह मानते हैं कि सर्वशक्तिमान देहधारण कर दैत्यों का नाश करते हैं पर इस अदृश्य दैत्य के लिये तो किसी अप्रकट अवतार की आवश्यकता है जो आज तक देखा नहीं गया।
-------------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Tuesday, May 26, 2015

रुचिकर विषयों से जुड़ने का प्रयास करें-हिन्दी चिंत्तन लेख(ruchikar vishayon se judne ka prayas karen-hindi thought article)


पहले लोगों के पास अपने जीवन में प्रयोग तथा नयी अनूभूतियों के सीमित साधन थे। पुरुषों के लिये तो फिर भी बाहर सक्रियता के कारण अधिक प्रयोग के अवसर थे चाहरदीवारी के अंदर रहने वाली महिलाओं का तो पूरा जीवन ही सीमित दायरों में गुजरता था।  शायद इसलिये अब तक यह प्रश्न पूछा जाता है कि सारे धर्मों की स्थापना पुरुषों ने ही क्यों की? इसका जवाब यही है कि उस समय महिलाओं का जीवन संक्षिप्त दायरे में बीतता था इसलिये व्यापक सक्रियता के अभाव में वह पुरुषों की बराबरी नहीं कर सकी। अब तो दोनों को समान अवसर मिल रहे हैं। कंप्यूटर, टीवी तथा स्मार्टफोन ने पुरुष तथा स्त्रियों दोनों के विश्व भर से जुड़ने का समान अवसर प्रदान किया है। अभी तक फिल्में देखकर पूरा समाज क्षणिक आनंद लेता था पर नये साधनों ने उसे व्यापक जानकारी, प्रयोग तथा अनुसंधान का अवसर प्रदान किया है।
बहरहाल हम जीवन के बदलते रूपों में आत्ममंथन की पक्रिया से जुड़ने के विषय पर चर्चा कर रहे हैं। हमारे विचार से पुरुष तथा स्त्रियों के लिये अपनी अपनी मनस्थिति पर बाह्य तत्वों के प्रभाव का अध्ययन करने के लिये वर्तमान समय में पहले से ज्यादा साधन उपलब्ध हैं। टीवी पर कभी समाचार सुने तो अनेक बार उत्तेजित करने वाली खबरें आती हैं। अनेक कथित सामाजिक धारावाहिकों की कहानियां ऐसी हैं जिन्हें देखने पर मस्तिष्क अन्मयस्क हो जाता है। कभी दिमाग में घृणा तो कभी इश्क तो कभी डरावना भाव आता है। ऐसे में कभी किसी धार्मिक चैनल पर अच्छा भजन आ रहा है उसे सुनने में तत्लीन हो जायें तो सारे विषयों से दूर होकर मन उसमें रमना चाहता है।
हम अनेक बार पीटीसी चैनल पर स्वर्ण मंदिर में आने वाले सीधे प्रसारण को देखते हैं। अनेक बार वहां का प्रसारण मन इतना प्रसन्न कर देता है कि लगता है कि वही चैनल देखते रहें।  अभी भी इस समय हम स्थानीय प्रसारण में गुरुवाणी सुन रहे हैं तो मन प्रसन्न हो रहा है और दिल ही नहीं कर रहा कि समाचार या मनोरंजन चैनल पर जायें।
इससे यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि हमें सांसरिक विषयों में उसी हद तक लिप्त रहना चाहिये जहां तक आवश्यकता हो। दूसरी बात यह कि हम मन को प्रसन्न करने वाले ही व्यक्ति, विषय तथा विचार की तरफ जायें न कि कष्ट वाले मार्ग का अनुसरण करें।
-------------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Saturday, May 23, 2015

सुबह का समय शक्ति संचित करने में लगायें-हिन्दी चिंत्तन लेख(subah ka samay shakti sanchit karne mein lagayen-hindi thought article)


पूरे विश्व में प्रचार माध्यमों के बीच हर प्रकार के दर्शक और श्रोता को प्रभावित करने की होड़ चल पड़ी है। मनोरंजन के नाम पर अनेक तरह के कार्यक्रम आते हैं पर अब तो भक्ति पर भी व्यवसायिक कार्यक्रम बनने लगे हैं। प्रातःकाल टीवी तथा रेडियो पर धर्मभीरु लोगों के आनंद के लिये भजनों का कार्यक्रम प्रसारित होता है। जिन लोगों का अंतर्मन अध्यात्मिक रस से सराबोर होता है उन्हें इनके श्रवण से आनंद मिलता है। यह अलग बात है कि भजन और आरती में अंतर बहुत कम लोग समझते हैं। आरती हमेशा ही भक्त को सर्वशक्मिान के समक्ष याचक तथा पीड़ित के रूप में प्रस्तुत करती है। श्रीमद्भागवत् गीता में भक्तों के चार प्रकार-आर्ती, अर्थार्थी, जिज्ञासु तथा ज्ञानी- बताये गये हैं। आत भाव वालों को आरती, अर्थार्थी भाव वालों के नाम स्मरण, योग ज्ञान साधना वालों को मंत्र वाले भजन अधिक पसंद आते हैं। जिज्ञासु सभी प्रकार के भजनों का श्रवण यह सोचकर करते हैं कि शायद उनको इससे आनंद मिल जाये-कुछ को मिलता है तो कुछ इन्हें आम गीत मान लेते हैं।
अनेक जगह व्यवसायिक व्यायाम शिक्षक अपने यहां आने वाले शिष्यों के लिये गीत संगीत मद्धिम स्वर से बजाने का प्रबंध भी करते हैं। हमने अपने अभ्यास से यह अनुभव किया है कि सुबह के समय मौन होकर योग साधना या सैर करना चाहिये। जब दिन भर ही विषयों से संपर्क के दौरान अपनी समस्त इंद्रियों को सक्रिय रखना ही है तो फिर प्रातःकाल से ही उनके उपयोग कर उन्हें थकाने की  आवश्यकता ही नहीं है। प्रातःकाल तो समस्त इंद्रियों को मौन रखकर ऊर्जा संचय का है और अपना ध्यान श्रवण, दर्शन अथवा चिंत्ताओं में लगाना अपनी सृजित ऊर्जा को विसर्जित करना ही है। अनेक जगह लोग प्रातःकाल भ्रमण तथा योग साधना के समय बातें करते हैं। उन्हें कोई शिक्षक यह नहीं समझाता कि इस तरह ऊर्जा का अपव्यय देह में विकार अधिक लाता है।
अनेक व्यवसायिक  व्यायाम तथा योग शिक्षकों में यह अहंकार का भाव आ ही जाता है। वह गुरु हैं इस भाव से उन्हें संतोष नहीं होता वरन् वह उसका अनुभव दूसरे को कराकर आत्मसंतोष करना चाहते हैं। इसके विपरीत निष्काम भाव से योग शिक्षा देने वाले इस भाव से परे होते हैं।
हमारा मानना है कि प्रातःकाल का समय धर्म के लिये होता है और कहा जाता है कि धर्म ही मानव जीवन की सबसे बड़ी शक्ति होती है। इसलिये प्रातःकाल मौन होकर दैहिक, मानसिक तथा वैचारिक शक्ति का संचय करना चाहिये।  इस दौरान सांसरिक विषयों पर वार्तालाप करने से योग साधना, व्यायाम तथा भ्रमण के सारे लाभों से वंचित होना पड़ता है।
----------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Thursday, May 21, 2015

योग साधना में मन पर नियंत्रण का अभ्यास भी करें-हिन्दी चिंत्तन लेख(yog sadhana mein man par niyantran ka bhi abhyas karen-HINDI THOUGHT ARITICLE)


योग साधकों से जुड़े दो समाचार एक ही  दिन आये जिनसे कष्ट तथा आश्चर्य ही होता है। एक योग साधिका घर से बाहर जाकर एक पहाड़ी पर प्रतिदिन एक निश्चित स्थान पर योग साधना करती थी। वहां एक मनोरोगी लड़का भी आकर घूमने लगा और उस साधिका के स्थान घेर रहा था। साधिका ने उस  लड़के को अपने साधना के नियमित स्थल से दूर हटाने के लिये डांट डपट की जिससे गुस्से में आकर उसने पत्थर मारा। सात दिन तक अस्पताल में संघर्ष करने के बाद योग साधिका की मृत्यु हो गयी। यह हृदय विदारक घटना है। एक साधिका की मौत से हमें वाकई अफसोस हुआ। हमें यह मालुम नहीं है कि यह अप्रिय विवाद टाला जा सकता था पर एक अनुमान है कि कहीं न कहीं किसी से गलती तो हुई है।
एक योग साधिका जो कि एक उच्च प्रशासनिक अधिकारी भी है उसने अपने अभ्यास स्थल उद्यान में घास खोद रहे एक माली को धूल उड़ाने से रोका।  वह थोड़ी देर रुका और फिर घास खोदने लगा जिससे फिर धूल उड़ने लगी। धूल से एलर्जी होने के कारण उस प्रशासनिक अधिकारी योग साधिका को क्रोध आ गया और उसने अपने पद का उपयोग करते हुए उस माली को शांति  भंग का आरोप लगाकर जेल भिजवा दिया। बाद में प्रचार माध्यमों में हल्ला मचा तो वह माली छूट गया।
वैसे तो जीवन मृत्यु पर किसी का जोर नहीं है पर कुछ ऐसी अप्रिय  घटनायें  चर्चा का विषय बनती है  जिनके बारे में यह अनुमान ही होता है कि उन्हें टाला  जा सकता था। इन दोनों घटनाओं में जो बात हमारे सामने आती है वह यह कि योग साधना के समय आसन तथा प्राणायम करते हुए शरीर में रक्त प्रवाह तीव्र गति से होता है-उस समय मन भी  अति  प्रफूल्ल होता है पर अगर उसमें व्यवधान आये तो सामान्य स्थिति से अधिक क्रोध भी आता है जो कि स्वयं के लिये ही परेशानी का कारण बन सकता है। आष्टांग योग में पूर्ण सिद्ध पाने वाले को तो कभी क्रोध आ ही नहीं सकता। उस पर जिसने श्रीमद्भागवत गीता के सहज योग सिद्धांतों का अध्ययन किया तो वह क्रोध करने वाली बात भी क्रोध वाली बात पर भी हसंता ही है।
देखने में यह आ रहा है कि कुछ लोगों ने आसन तथा प्राणायाम को ही पूर्ण योग मान लिया है। ध्यान, धारण और समाधि के नियमों पर बहुत कम लोग ध्यान दे रहे हैं। यही कारण है कि अनेक योग साधक इस विधा में पूर्ण पारंगत नहीं हो पाते।
दूसरी बात यह भी समझ लें कि हमारे समाज में मानसिक रुगणता बढ़ गयी है। चाणक्य कहते हैं कि अपना धन तथा स्वास्थ्य दूसरे लोगों से छिपाकर रखना चाहिये। जो लोग योग साधक अपने अभ्यास में नियमित लीन रहते हैं उनके विचार, व्यक्तित्व तथा व्यवहार में स्वाभाविक रूप से स्थिरता आती है।  ऐसे में कुछ मानसिक रुग्ण लोग उन्हें पथ से जाने अनजाने  विचलित करने का प्रयास कर सकते हैं। उन पर उत्तेजित होने से कोई लाभ नहीं है।  एक योग साधक को अपने ऊपर संयम रखना चाहिये।  वैसे योगियों के पास दंड की शक्ति होती है पर उसके प्रयोग के रूप अनेक हैं। हमेशा ही वाणी या शरीर के अंगों से ही दंड नहीं दिया जाता। कूटनीति से अपने विपक्षी को परास्त करने की कला योग साधक को तभी आ सकती है जब वह आठों भागों का अभ्यास केवल न करे बल्कि उनका फलितार्थ भी समझे। नियमित योग साधकों को उन क्रियाओं से भी जुड़ना चाहिये जिनसे मन पर नियंत्रण होता है।  एक बात याद रखें कि योग साधक होने पर अपने विशिष्ट होने का बोध तो कभी नहीं पालें। यह अहंकार का भाव योग साधकों के लिये एक शत्रु होता है।
--------------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Sunday, May 17, 2015

बौद्ध तथा हिन्दू धार्मिक विचारधारा का संयुक्त रूप सुखद-हिन्दी चिंत्तन लेख(bauddh tathaa hindu dharmik vichardhara ka sanyukt roop sukhad-hindi thought article)


       प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चीन तथा मंगोलिया यात्रा में भगवान बुद्ध तथा उनके चरित्र की चर्चा का राजनीतिक रूप से कोई महत्व अभी दृष्टिगोचर नहीं हो रहा है लेकिन वैश्विक पटल के ऊपर इसके प्रभाव कालांतर में अप्रत्याशित रूप से दिखेंगे। चीन में सबसे अधिक बुद्ध धर्म मानने वाले हैं पर वैश्विक पर्दे पर वह वामपंथी विचाराधारा का प्रतीक बना रहा। अहिंसा के सबसे बड़े प्रवर्तक भगवान बौद्ध की विश्व में उस तरह चर्चा नहीं हुई जितनी पश्चिम धर्म प्रवर्तकों की दिखती रही। पश्चिम के दोनों धर्मो की चर्चा खूब हुई पर बुद्ध धार्मिक विचाराधारा का प्रवाह अपेक्षा के अनुकूल नहीं हुआ। चीन से अनेक लोग विदेश गये पर अपनी धार्मिक पहचान का महत्व साथ नहीं लाये। इससे तो हिन्दू धार्मिक लोग बेहतर रहे जिन्होंने विश्व में अपनी धार्मिक  पहचान कम नहीं होने दी।
        हमारा अनुमान है कि जिस तरह चीन की जो राजकीय विचाराधारा रही है उसमें धर्म अध्यात्म का कोई महत्व नहीं रहा और अभी तक वहां  के लोगों ने शायद ही कभी अपने राजपुरुषों की मंदिर में उपस्थिति की तस्वीर देखी हो पर श्रीनरेद्रमोदी की यात्रा ये यह अवसर उन्हें मिला। विश्व पटल पर चीन के राजपुरुषों की मंदिरों में श्रीमोदी के साथ उपास्थिति वहां के देश की अध्यात्मिक छवि भी बना सकती है। अंततः यह बौद्ध धर्म के प्रचार में सहायक होकर उसका विस्तार कर सकती है। सबसे बड़ी बात यह कि हिन्दू तथा बौद्ध की संयुक्त  छवि विश्व में प्रचारित पश्चिमी धर्मो के लिये चुनौती बन सकती है। अभी तक यह देखा गया है कि एक धर्म से दूसरे धर्म में जाने की पंरपरा अधिक रही है। बौद्ध तथा हिन्दू धर्म की संयुक्त छवि न होने से पश्चिम में लोगों के पूर्वी धर्म कभी आकर्षक विकल्प नहीं बने जो अब संभावना बन सकती है। मुख्य बात यह कि भारतीय अध्यात्म्कि दर्शन अधिक तेजी से वैश्विक पटल पर छा सकता है जो पश्चिम के दो धर्मों के आपसी संघर्ष के बीच तीसरी विचाराधारा के रूप पहले से ही मौजूद है।
......................
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Friday, May 15, 2015

ओम के जाप से लाभ-हिन्दी कविता(om ke jaap se labh-hindi poem)


तन से टूटे
मन से रूठे
धन उनके पास नहीं है।

आंख और कान का संयोग
जब बुद्धि से टूटे
समझो जिंदगी में तरक्की की
कोई आस नहीं है।

कहें दीपक बापू असहज जिंदगी से
असमय ही पतन की
तरफ इंसान जाता है,
अपनाये जो योग साधना
वह तर जाता है,
ओम का जाप होता जहां
स्वर्ग का वास वहीं है।
-----------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Tuesday, May 12, 2015

भक्ति और योग साधना से भय का भाव दूर करें-हिन्दी चिंत्तन लेख(bhaki aur yog sadhana se bhay ka bhav door karen-hindi thought article)

मनुष्य में भय की प्रवृत्ति स्वाभाविक रूप से रहती है। न केवल उसे मुत्यु का वरन् भूखे लगने पर रोटी न होने तथा अपनी संपत्ति तथा वैभव खो  का भय रहता है। सामाजिक परंपराऐं निभाने के लिये वह इस भय से तत्पर रहता है कि कहीं उसकी प्रतिष्ठा पर आंच न आये। देखा जाये तो इंसान केवल भय में ही अपना जीवन गुजार देता है।
कहते हैं टपके से ज्यादा टपके का भय रहता है। जब टपक ही गया तो भय समाप्त होते ही व्यक्ति उससे जूझने के लिये प्रेरित होता है। अनेक लोग भविष्य की आशंकाओं और भय से इतना ग्र्रस्त रहते हैं कि उनकी दैहिक संघर्ष क्षमता क्षीण होती चली जाती है। अनेक तो ऐसे भय पाल लेते हैं जो कभी आते ही नहीं। कोई ऐसा जीव इस संसार में नहीं होता जिसके जीवन में उतार चढ़ाव नहीं आता। भगवान श्रीराम को भी प्रतिकूल स्थितियों का सामना करना पड़ा। भगवान श्री कृष्ण का तो बाल्यकाल ही प्रतिकूल स्थितियों से जूझते ही बीता। इन महानायकों ने न बल्कि अपने जीवन में दृढ़ता से  संघर्ष करने के साथ ही तत्कालीन समाज का भी उद्धार भी किया।  उनके गुुरुओं ने निष्काम भाव से शिक्षा प्रदान की जिसे प्राप्त करने के बाद उन्होंने न केवल युद्ध क्षेत्रों में वीरता दिखाई वरन् जीवन प्रबंध का भी संदेश दिया।
इसलिये अपने जीवन में सदैव उन्मुक्त भाव रखना चाहिये। प्रातःकाल योग साधना कर अपने अंदर दैहिक, मानसिक तथा चिंत्तन शक्ति का संचय करने के साथ ही उत्साह के साथ दिन बिताने के लिसे तत्पर होना चाहिये। हम देखते हैं दिन में ही अनेक उतार चढ़ाव आते हैं। प्रातःकाल शीतल हवा बहती है तो दोपहर काल में गर्मी विकट रूप से त्रास देती है फिर शाम अपने साथ शांत भाव लाती है।  यही स्थिति जीवन की भी है इसलिये आशंका, भय तथा संताप के भाव पर अधिक ऊर्जा व्यर्थ नहीं करना चाहिये।
--------------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Saturday, May 9, 2015

लोकतंत्र में भीड़तंत्र से बचना चाहिये-हिन्दी चिंत्तन लेख(loktantra mein bheedtantra se bachna hoga-hindi thoughta article)


विश्व के अधिकांश देशों की वर्तमान राजकीय प्रबंध संस्थाओं के संगठन का निर्माण लोकतांत्रिक पद्धति से होता है।  राष्ट्र के लोगों का बहुमत जिसकी तरफ जाता है वही राज्य प्रमुख बनता है। मूलतः यह प्रणानी सैद्धांतिक रूप से बहुत उपयुक्त है पर जिस तरह से चुनाव के दौरान मतदाताओं को लुभाने के प्रयास में धन का व्यय होता है उससे राजनीति के प्रति शौकिया रुचि रखने वालों के लिये जनप्रतिनिधि बनना सहज नहीं हो पाता। प्रचार तथा जनसंपर्क के लिये अब हार्दिक भाव से काम करने वाले कार्यकर्ता नहीं मिलते इसलिये चयन के प्रत्याशी धन के बल पर ही मैदान में उतरते हैं।  भारत की लोकतांत्रिक प्रणाली अमेरिका तथा ब्रिटेन का समन्वित रूप है। अंतर इतना है कि इन देशों में अनेक प्रकार ेा आर्थिक व्यवहार राजीनीतिक शिष्टाचार होता है और भारत में उसे नैतिक भ्रष्टाचार माना जाता है।  प्रचार माध्यमों में जिस तरह हम देख रहे हैं उससे तो यही लगता है कि इन देशों में  कंपनियां-आधुनिक धनपतियों का वह छद्म रूप जिसे उनके स्वामी की बजाय सेवक होने का आभास भर होता है-चुनाव में अपनी पसंद की सरकार बनवा ही लेती हैं। न ही बनती हैं तो भी सरकार की पसंद स्वयं ही बन जाती हैं। मतलब कंपनियों के -जिनको वामपंथी पूंजीपति तो कभी नया दैत्यावतार भी भी कहते हैं-दोनों हाथों में लड़डू रहते हैं।  अभी ब्रिटेन में हुए चुनाव में जिस दल ने विजय पायी वह लाभ के सिद्धांत पर सरकार चलाता है और जो हारा वह सार्वजनिक क्षेत्र का महत्व बढ़ाने के सिद्धांत पर चलता है।
हम देखते हैं कि राजकीय पदों के नाम और स्वरूप का आम जनमानस पर प्रभाव पड़ता ही है।  पहले हमारे यहां आम बोलचाल में महाराज शब्द सम्मान से एक दूसरे को कहा जाता था अब नेताजी कहा जाता है।  अनेक साधु संत पहले अपने नाम से महाराज या राजा शब्द लगाते थे पर अब सरकार लिखते हैं। कहने का अभिप्राय यह है कि राजकीय व्यवस्था कहीं न कहीं आम जनमानस को प्रभावित करती ही है। यही कारण है कि हर क्षेत्र में बहुमत की बात की जाती है। इस बहुमत की भावना ने भीड़तंत्र को बढ़ावा दिया है।  कोई व्यक्ति इसलिये ही पूज्यनीय मान लिया जाता है क्योंकि उसके पास भीड़ होती है। लोकतंत्र ने समाज सेवकों, प्रचार माध्यमों तथा पूंजीपतियों का ऐसा गठजोड़ बना लिया है जिसमें अध्यात्मिक ज्ञान अथवा प्राकृतिक सिद्धांतों की मान्यता पर चलने का महत्व कम कर दिया है। उससे बुरी बात यह कि किसी व्यक्ति के व्यक्तिगत आचरण के दोष को पैसे, पद और प्रतिष्ठा की आड़ में छिपने का अवसर मिल जाता है।  जिसके पास भीड़ है वही श्रेष्ठ है इस नये सिद्धांत ने समाज की सोच को खोखला कर दिया है।  इतना ही नहीं जिसे अपने अपराध या दोष छिपाना है वह किराये की भीड़ एकत्रित कर अपनी छवि नायक की बना लेता है। उसी के सहारे न केवल वह समाज परे दिखता है वरन् उसके संचालन सिद्धांतों को रौंदता चलता है।
कोई माने या न माने अभी हाल ही के एक घटना से यह संदेश तो पूरे देश में चला ही गया है कि पैसे, पद और प्रतिष्ठा के दम पर कोई भी व्यक्ति कहीं भी विजेता की तरह प्रस्तुत किया जा सकता है।  भारतीय प्रचार माध्यमों ने पिछले दो दिनों में अपनी प्रतिष्ठा जिस तरह गंवाई है उसे पाने में उनको समय लगेगा। फिल्म क्रिकेट या अन्य प्रतिष्ठत व्यक्ति कें आभामंडल के आसपास भारतीय समाचार जगत केंद्रित करना इस बात का द्योतक है कि पत्रकारिता से कमाई चाहे जितना भी कोई कर ले पर उसके पास व्यवसायिक कौशल तथा प्रतिबद्धता भी है यह प्रमाणित नहीं होता।  समाचार प्रकाशन जगत को टीवी चैनलों का अनुसरण करने की बजाय  अपना कार्य जनोन्मुख करना चाहिये ताकि लोग प्रातः टीवी चैनल से बासी हो चुकी खबरें पढ़ने को बाध्य न हों।
हमारा मानना है कि लोकतंत्र एक राजकीय प्रबंध के संगठन की स्थापना के लिये एक बेहतर प्रणाली है पर उसके आधार पर सामाजिक संदर्भों में उसे भीड़तंत्र क्रे अनुसार देखना एक खतरनाक प्रयास भी है। इससे लोगों में उस लोकतांत्रिक प्रणाली के प्रति अविश्वास पैदा होने लगता है जिसका आधार ही उनके मत पर टिका है। विश्व भर के लोकतांत्रिक नायकों को इस बात पर विचार करना चाहिये।
-----------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Thursday, May 7, 2015

कर्म में अकर्म तथा निष्कर्म में सुख की खोज-हिन्दी चिंत्तन लेख(karma mein akram tathaa nishkram mein sukh ki khoj-hindi thought article)


                   हर मनुष्य में यह भाव रहता है कि अन्य मनुष्य उसका सम्मान करें। वह जो काम करे उसकी कोई प्रशंसा करे। यह पूज्यता का भाव है। इसका गुण यह है कि हर मनुष्य सक्रिय रहता है ताकि उस पर परिवार, समाज तथा निजी मित्रों की दृष्टि बने रहे। इस भाव का दुर्गुण यह है कि चालाक लोग झूठी प्रशंसा या आग्रह कर सज्जन लोगों से भी अपना काम निकाल लेते हैं। अनेक ऐसे लोग हैं जो बहुत चालाक हैं और दूसरे की झूठी प्रशंसा कर अपना काम निकाल लेते है और फिर राह चलते हुए अभिवादन तक करने से बचते हैं-उनका प्रयास यही रहता है कि जिससे काम निकल गया उसे अब दृष्टि भी न मिले तो अच्छा है।
            पूज्यता का यह भाव राजसी प्रवृत्ति के लोगों में अधिक होता है। जो लोग श्रेष्ठ राजसी कर्म करते हैं उनसे लधु कर्म में लगे लोग दबते हैं।  लघु राजसी कर्म करने वालों का जीवन हमेशा ही उच्च राजसी पद पर सक्रिय मनुष्य की कृपा से चलतर है।  इसलिये वह उनकी चाटुकारिता करते हैं। आवश्यकता हो तो सर्वशक्तिमान की बजाय उनकी आरती भी उतारते हैं। श्रेष्ठ राजसी पुरुषों के पास धन की मात्रा अधिक, उच्च पद और प्रतिष्ठा व्यापक होती है इसलिये उनके इर्दगिर्द लघु राजसी पुरुषों का एक घेरा बना जाता है। इन लघु मनुष्यों की चाटुकारिता तथा आरती भाव श्रेष्ठ पुरुषों को अहंकार के साथ ही मोह में डाल देता है जिससे उनके अंदर अपनी उपेक्षा करने वालों के प्रति क्रोध का भाव पैदा होता है। धीरे धीरे वही श्रेष्ठ पुरुष पतन की तरफ जाते हैं।  इतिहास ऐसे श्रेष्ठ राजसी पुरुषों के पतन का गवाह है जो भले चंगे थे पर अंततः पतन की गर्त में समा गये।
                 ज्ञानी पुरुष वह है जो राजसी कर्म में अपनी आवश्यकता तक ही सक्रिय रहता है। वह प्रकृत्ति के तत्व को पहचानता है-जिसका मूल स्वभाव ही परिवर्तनशीलता है। जो कल था वह आज नहीं है, जो आज है वह कल नहीं होगा, इसलिये किसी एक व्यक्ति, विषय या वस्तु का मोह पालना ठीक नहीं है।  हमें अपना कर्म करना है कोई प्रशंसा करे या निंदा इस पर विचार नहीं करना है। यही निष्कर्म का सिद्धांत भी है। जहां किसी ने अन्य मनुष्यों से प्रतिफल या प्रशंसा पाने में मोह में कर्म करना प्रारंभ किया वहीं उसके सामने भविष्य में निराशा का भय भी पैदा होता है। जहां कोई आशा न हो वहां वह कर्म ही नहीं करता इससे वह निष्क्रिय भाव में स्थित हो जाता है जो कि तामसी प्रवृत्ति का परिचायक है। राजसी पुरुष ही कई बार तामसी हो जाते हैं। सात्विक मनुष्य यह जानते हैं  इसलिये हमेशा ही कर्म में अकर्म तथा निष्कर्म में सुख की संभावना के साथ जीवन यात्रा करते हैं।
---------------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Sunday, May 3, 2015

कंपनियों के खेल में मुक्केबाजी की कला -हिन्दी चिंत्तन लेख(kampaniyon ke khel mein mukkebazi, boxing and conmpany-hindi thought article)


आज के युग में आधुनिक सामानों के लिये व्यापार में प्रचार माध्यमों से  विज्ञापन आवश्यक हो गया है। विज्ञापन की वस्तु का उपयोग करते हुए किसी महानायक का दिखना जरूरी है और इसके  लिये खेल, कला, फिल्म तथा टीवी क्षेत्र में काम करने वाले पात्र का अभिनय करने वालों की आवश्यकता होती है क्योंकि वह किसी न किसी तरह सामान्य मनुष्यों के मस्तिष्क में निवास करते हैं। वह आम इंसान का अपनी प्रचारित वस्तुओं के उपभोग के लिये प्रेरित करते हैं। जिस तरह खेलों पर वस्तुओं की उत्पादक कंपनियो का नियंत्रण हो गया है और विभिन्न मुकाबलों ंके निर्णय पूर्व में ही तय लगते हैं उससे यह संदेह होता ही है कि  अब किसी की जीत हार में अस्वाभाविक तत्व भी शामिल होते हैं। वस्तुओं की उत्पादक कंपनियों के संचालक अब टीवी, टेलीफोन तथा फिल्म कंपनियां भी चला रहे हैं। मतलब यह कि कंपनी दैत्यों के पास न केवल मनुष्य की नयी वस्तु का उपभोग करने की इच्छा की संपति है वहीं उसकी आंखें, कान और मन को अपनी तरफ खींचने के साधन भी हैं।  एक तरह से कंपनियां अब अदृश्य देव या दानव कही जा सकती हैं जो संसार के संचालन में अपनी भूमिका निभाती है पर दृष्टिगोचर नहीं होती। विश्व के जनवादी विचारक तो यह मानते हैें कि समाज पर नियंत्रण करने वाली जितनी भी संस्थायें हैं उन पर पूंजीपतियों का कब्जा रहता है और वह अपने अनुसार ही राज्य की नीतियां बनवाते और बिगड़वाते हैं। जब तक भारत में कपंनियों का प्रभाव सीमित था तब तक उनके विचार अप्रासंगिक लगते थे पर आर्थिक उदारीकरण का युग आने के बाद जिस तरह कंपनियों की शक्ति प्रकट हो रही है, यह लगने लगा है कि उनकी सोच सही थी।
          अभी हाल में ही अमेरिका के लास वेगास शहर के एक केसीनों में मुक्केबाजी का मुकाबला अमेरिका के फ्लॉयड मेवेदर और मैनी पैकियओ के बीच हुआ।  इसके होने से पहले इसका भरपूर प्रचार हुआ।  प्रचार में यह बात बराकर दोहराई जाती रही कि दोनों ही गरीब परिवारों से आये और मुक्केबाजी करते हुए अमीर बन गये। मैनी पैकियओं के बारे मे तो यह भी प्रचार हअुा कि वह अपने देश फिलीपींस में एक बहुत बड़े दानदाता भी हैं।  प्रचार में दोनों खिलाड़ियों की  मुक्केबाजी की कला जितना ही उनके पवित्र व्यक्तित्व का प्रचार हुआ।  दोनों के बार मेूं हमें ज्यादा पता नहीं पर इतना जरूर कह सकते हैं कि व्यापारिक स्वामियों तथा प्रचार प्रबंधकों के संयुक्त उपक्रमों की इन पर कहीं न कहीं मेहरबानी अवश्य रही है। दोनों के बीच कैसीनों में मुकाबला हुआ जो जुआ की वजह से जाना जाता है।  मुकाबले से पहले ही प्रचार माध्यमों ने यह बताया कि सट्टेबाजों का प्रिय नायक फ्लॉयड मेवेदर है। यह सही साबित भी हुआ।  दोनों ने आपस में मुकाबले का अच्छा अभिनय भी किया। समाप्ति पर पैकियओ रैफरियों के पास अपने विजेता की आस लेकर गया क्योंकि उसे लगा कि उसने अच्छा अभिनय किया है उन्होंने उसे नकार कर मेवेदर का को विजेता घोषित किया।
मेवेदर और पैकियओ इस समय के विश्व के सबसे श्रेष्ठ मुक्केबाज हैं यह प्रमाणिकता से नहीं कहा जा सकता क्योकि यह 67 किलो वर्ग का मुकाबला खेल रहे थे।  इसका मतलब यह कि इस समय भी दुनियां में उनसे अच्छे मुक्केबाज हो सकते हैं पर सभी पर व्यापारिक स्वामियों और प्रचार प्रबंधकों की कृपादृष्टि नहीं जाती इसलिये। मुक्केबाज ही नहीं वरन् हर खेल में दो तरह के खिलाड़ी सक्रिय हैं एक तो जो वास्तव में खेलते हैं पर उनको किसी के इशारे पर खेलने का अभिनय नहीं करना आता या अवसर नहीं मिलता, दूसरे वह हैं जो खेलने की तकनीकी में इतने माहिर होते हैं कि वह दूसरे के इशारे पर उसके अनुसार खेलने का अभिनय भी करते हैं।  यकीनन दूसरे प्रकार के खिलाड़ियों को अधिक प्रचार तथा पैसा मिलता है। एक कैसिनो में खेला गया सामान्य मुक्केबाजी मुकाबला-जिसका पूर्व में परिणाम तय होने की आशंका हो-जब महान होने का प्रचार पाता है तब ऐसी अनेक बातें दिमाग में आती हैं जिनका संबंध खेल से सोच से ज्यादा होता है।
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Friday, May 1, 2015

श्रम करने से जीवन के प्रति आत्म विश्वास बढ़ता है-1 मई मजदूर दिवस पर विशेष हिन्दी चिंत्तन लेख(self comfidence and labour work-A Hindi article on 1 may day mazdoor diwas)


आज पूरे विश्व में 1 मई को मजदूर दिवस मनाया जाता है। आधुनिक विश्व में कार्ल मार्क्स को मजदूरों का मसीहा कहर जाता है।  जबकि हमारे यहां भगवान विश्वकर्मा को श्रम का प्रमाणिक देवता माना जाता है पर अंग्रेजी पद्धति की शिक्षा से साक्षर हुए हमारे अनेक विद्वानों को पाश्चात्य संस्कृति, संस्कार और समाज बहुत भाता है इसलिये ही वहां के अनेक महापुरुषों  को भी समाज से कुछ अलग दिखने के इरादे वह याद करते है। आमतौर से यह भ्रामक प्रचार किया जाता है कि भारतीय अध्यात्मिक दर्शन से मनुष्य को पलायनवादी बनाया जाता है जबकि सच यह है कि हमारे वेदों, पुराणों तथा अन्य प्राचीन ग्रंथों में परिश्रम को अत्यंत महत्व दिया गया है।  श्रीमद्भागवत गीता में तो अकुशल श्रम को हेय मानना ही अनुचित बताया गया है। देखा जाये तो श्रीमद्भागवत गीता में सामाजिक समरसता बनाये रखने के जो सिद्धांत है मगर उसे सन्यासियों के लिये ही उपयोगी प्रचारित किया जाता है।
अथर्ववेद में कहा गया है कि
--------------
शतहस्त समाहार सहस्त्रहस्त सं किर।
कृतस्य कार्यस्य चहे स्फार्ति समावह।।
          हिन्दी में भावार्थ-हे मनुष्य तू सौ हाथाों वाला होकर धनार्जन कर और हजार हाथो वाला बनकर दान करते हुए अपने कर्तव्य से उन्नति की तरफ बढ़।

व्यार्त्या पवमानो वि शक्रः पाप हत्यया।।
हिन्दी में भावार्थ-शुद्धता बरतने वाला मनुष्य सदा पीड़ा से दूर रहता है और पुरुषार्थी पुरुष कभी पाप कर्म नहीं करता।
          हमारे अध्यात्मिक दर्शन में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि पुरुषार्थी पुरुष ही श्रेष्ठ है।  इतना ही नहीं जो कर्म के आधार पर मनुष्य में भेद नहीं रखता वही ज्ञानी और सुखी है। यह सच है कि भारतीय समाज में सामान्य लोग परिश्रमी को गरीब समझते हैं पर इसका यह तात्पर्य नहीं कि सभी अज्ञानी है। दूसरी बात यह कि आज के  हम जिन कथित विकासवादी बुद्धिजीवियों को देखते हैं तो वह अकुशल श्रमिकों, मजदूरों और गरीबों का हित चिंत्तक होने का पाखंड करते हैं। इतना ही नहीं वह महिलाओं का उद्धार घरेलू कार्य से निकलकर बाहर नौकरी करने में देखते हैं। उनको लगता है कि घर के काम करना अकुशल श्रम का द्योतक है। एक अमेरिकी संस्था ने एक शोध कर यह निष्कर्ष प्रस्तृत किया कि भारत में सामान्य महिलायें अपने घरेलू कार्यों का अगर मूल्यांकन किया जाये तो वह अपने पुरुषों से ज्यादा कमाती हैं। इसका आशय यह है कि कोई पुरुष अपनी घरेलू महिला के कार्यों के लिये किसी दूसरे को भुगतान करे तो वह उसकी आय से कहीं अधिक होगा। हैरानी की बात यह कि कार्ल मार्क्स के शिष्य ही घरेलू महिलाओं के प्रति ऐसा रवैया दिखाते हैं जैसे कि उनका गृहस्थ कर्म कोई अनुत्पादक कार्य हो।
बहरहाल हमारे भारतीय समाज में श्रम के प्रति शिक्षित तथा सभ्रांत वर्ग में रुचि कम होती जा रही है। इसी कारण उसमें बेरोजगारी, बीमारी तथा बेचारगी की स्थिति बढ़ती दिख रही है। कहा जाता है कि यह शरीर तब तक चलेगा जब तक इसे चलाओगे। इसका आशय यही है कि जितना श्रम करोगे उतनी ही सांस चलेगी। हमने देखा है कि जो लोग श्रम कम करते हैं उनकी सांसें भी अशुद्ध और विषाक्त होने लगती हैं। सबसे बड़ी बात यह कि श्रम करने से जीवन के प्रति आत्मविश्वास बढ़ता है। सत्यमेव जयते, श्रममेव जयते।
------------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

अध्यात्मिक पत्रिकाएं

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips