समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका
-------------------------


Thursday, May 7, 2015

कर्म में अकर्म तथा निष्कर्म में सुख की खोज-हिन्दी चिंत्तन लेख(karma mein akram tathaa nishkram mein sukh ki khoj-hindi thought article)


                   हर मनुष्य में यह भाव रहता है कि अन्य मनुष्य उसका सम्मान करें। वह जो काम करे उसकी कोई प्रशंसा करे। यह पूज्यता का भाव है। इसका गुण यह है कि हर मनुष्य सक्रिय रहता है ताकि उस पर परिवार, समाज तथा निजी मित्रों की दृष्टि बने रहे। इस भाव का दुर्गुण यह है कि चालाक लोग झूठी प्रशंसा या आग्रह कर सज्जन लोगों से भी अपना काम निकाल लेते हैं। अनेक ऐसे लोग हैं जो बहुत चालाक हैं और दूसरे की झूठी प्रशंसा कर अपना काम निकाल लेते है और फिर राह चलते हुए अभिवादन तक करने से बचते हैं-उनका प्रयास यही रहता है कि जिससे काम निकल गया उसे अब दृष्टि भी न मिले तो अच्छा है।
            पूज्यता का यह भाव राजसी प्रवृत्ति के लोगों में अधिक होता है। जो लोग श्रेष्ठ राजसी कर्म करते हैं उनसे लधु कर्म में लगे लोग दबते हैं।  लघु राजसी कर्म करने वालों का जीवन हमेशा ही उच्च राजसी पद पर सक्रिय मनुष्य की कृपा से चलतर है।  इसलिये वह उनकी चाटुकारिता करते हैं। आवश्यकता हो तो सर्वशक्तिमान की बजाय उनकी आरती भी उतारते हैं। श्रेष्ठ राजसी पुरुषों के पास धन की मात्रा अधिक, उच्च पद और प्रतिष्ठा व्यापक होती है इसलिये उनके इर्दगिर्द लघु राजसी पुरुषों का एक घेरा बना जाता है। इन लघु मनुष्यों की चाटुकारिता तथा आरती भाव श्रेष्ठ पुरुषों को अहंकार के साथ ही मोह में डाल देता है जिससे उनके अंदर अपनी उपेक्षा करने वालों के प्रति क्रोध का भाव पैदा होता है। धीरे धीरे वही श्रेष्ठ पुरुष पतन की तरफ जाते हैं।  इतिहास ऐसे श्रेष्ठ राजसी पुरुषों के पतन का गवाह है जो भले चंगे थे पर अंततः पतन की गर्त में समा गये।
                 ज्ञानी पुरुष वह है जो राजसी कर्म में अपनी आवश्यकता तक ही सक्रिय रहता है। वह प्रकृत्ति के तत्व को पहचानता है-जिसका मूल स्वभाव ही परिवर्तनशीलता है। जो कल था वह आज नहीं है, जो आज है वह कल नहीं होगा, इसलिये किसी एक व्यक्ति, विषय या वस्तु का मोह पालना ठीक नहीं है।  हमें अपना कर्म करना है कोई प्रशंसा करे या निंदा इस पर विचार नहीं करना है। यही निष्कर्म का सिद्धांत भी है। जहां किसी ने अन्य मनुष्यों से प्रतिफल या प्रशंसा पाने में मोह में कर्म करना प्रारंभ किया वहीं उसके सामने भविष्य में निराशा का भय भी पैदा होता है। जहां कोई आशा न हो वहां वह कर्म ही नहीं करता इससे वह निष्क्रिय भाव में स्थित हो जाता है जो कि तामसी प्रवृत्ति का परिचायक है। राजसी पुरुष ही कई बार तामसी हो जाते हैं। सात्विक मनुष्य यह जानते हैं  इसलिये हमेशा ही कर्म में अकर्म तथा निष्कर्म में सुख की संभावना के साथ जीवन यात्रा करते हैं।
---------------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

No comments:

Post a Comment

अध्यात्मिक पत्रिकाएं

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips