समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका
-------------------------


Saturday, July 18, 2015

नेकी कर दरिया में डाल का सिद्धांत आंनददायक-हिन्दी चिंत्तन लेख(neki kar dariya mein dal-hindi religion thoght article)

                                                  अनेक लोग शिकायत करते हैं कि उन्होंनें किसी की मदद की तो उसने वादा नहीं निभाया। अनेक कहते हैं कि अमुक आदमी ने उनका भरोसा तोड़ा। भरोसे का संकट मनुष्य समाज में रहता ही है। एक आदमी पर कब तक भरोसा किया जा सकता है कि वह अपनी बात पर खरा उतरेगाजब तक वह अपनी जिम्मेदारी पर लिये गये काम को करने का वादा करता रहे भले ही इस संबंध में कुछ करता न दिखे या उसके काम करने की अवधि निकल जाये या फिर तब तक जब तक हम सुनते हुए बोर न हो जायें। सबसे बेहतर यह कि यह मान लिया जाये कि भरोसा वैसे ही टूटता है जैसे वादा मुकरने के लिये किया जाता है। जिसे काम करना है वह वादा नहंी करता। जो मदद करता है वह ढिंढोरा नहीं पीटता।  गरजने वाले बादल कभी बरसते नहीं-यह सिद्धांत मान लें तो कभी कष्ट ही न हो।
                              इस संबंध में एक कथा आती है कि एक आदमी फल तोड़ने के लिये पेड़ पर चढ़ गया।  फल तो उसने तोड़ा पर अब सवाल यह आया कि नीचे उतरे कैसेवह भगवान से प्रार्थना करने लगा कि हे भगवानकिसी तरह इस पेड़ से उतर तो मैं दस रुपये का प्रसाद चढ़ाऊंगा।
                              वह थोड़ा उतरा तो पांच रुपये फिर सवा रुपये और जब पूरी तरह उतर गया तो कहने लगा किकाहे का प्रसाद चढ़ाऊंजब मै पेड़ पर चढ़ा ही स्वयं था तो उतरना कौनसी बड़ी बात थी?’’
                              पुरानी कहानियां में हमेशा कोई न कोई संदेश रहता है। यह कहानी मानवीय स्वभाव की स्थिति को बयान करती है।  जब व्यक्ति संकट में होता है या उसका ऐसा काम फंसा रहता है जिसे स्वयं नहीं कर सकता तब वह मासूमियत से इधर उधर देखता है कि कोई उसकी मदद करे। इस प्रयास में वह जिससे मदद की आशा करता है उससे तमाम तरह की प्रार्थना करने के साथ ही प्रलोभन भी देता है।  काम निकलने के बाद वह वादा पूरा करेगा या नहींकरेगा तो अपने कथन के अनुसार या नहींइस पर विश्वास करना कठिन है। नही करता तो मदद करने वाला आदमी निराश होता है पर ज्ञानियों के लिये यह समस्या नहीं होती। वह तो नेकी कर दरिया में डाल के सिद्धांत पर चलते हैं।
--------------

दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’’
कवि, लेखक एंव संपादक-दीपक 'भारतदीप",ग्वालियर 
poet,writer and editor-Deepak 'BharatDeep',Gwalior
http://dpkraj.blogspot.com
यह कविता/आलेख रचना इस ब्लाग ‘हिन्द केसरी पत्रिका’ प्रकाशित है। इसके अन्य कहीं प्रकाशन की अनुमति लेना आवश्यक है।
इस लेखक के अन्य ब्लाग/पत्रिकायें जरूर देखें
1.दीपक भारतदीप की हिन्दी पत्रिका
2.दीपक भारतदीप की अनंत शब्दयोग पत्रिका
3.दीपक भारतदीप का  चिंतन
4.दीपक भारतदीप की शब्दयोग पत्रिका
5.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान का पत्रिका

८.हिन्दी सरिता पत्रिका

2 comments:

  1. जिंदगी का सफर-हिन्दी कविता(zindagi ka safar-hindi poem)
    स्मरण में नहीं है
    वह मित्र
    जिंदगी के सफर में जो साथ थे।

    भूल गये उनकी ताकत
    हमारे सहारे जिनके हाथ थे।

    कहें दीपक जिंदगी का रथ
    चलता है इतनी तेजी से
    आंखों के सामने गुजर जाते
    बड़े बड़े पेड़
    फसलों से भरे खेत
    गगनचुंबी इमारतें
    न हमने पूछा
    न किसी ने बताया
    कौन उनके नाथ थे।

    ReplyDelete

अध्यात्मिक पत्रिकाएं

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips