समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका
-------------------------


Sunday, July 6, 2014

प्रातःकाल दैहिक तथा मानसिक शुद्धि करने वालों को उत्पात नहीं सताते-मनुस्मृति के आधार पर चिंत्तन लेख(pratkal daihik tathaa mansik shuddhi karane walon ko utpat nahin satate-A hindu hindu religion thought based on manu smriti)




            आजकल शिरडी के सांईबाबा की भक्ति को लेकर भारी विवाद चल रहा है।  भारतीय धार्मिक परंपरा  शंकरचार्य नाम पदवी का निर्माण हुआ जिन पर बैठे कुछ लोग अपने विचार आये दिन व्यक्त कर यह जताने का प्रयास करते हैं कि समग्र हिन्दू समाज उनका अनुयायी है पर जिस तरह जनमानस में स्वतंत्र की भक्ति धारा का प्रवाह हम देश में  देख रहे हैं उनके दावे  यकीन नही होता।  आदि शंकराचार्य ने हिन्दू धर्म को शक्तिशाली संगठित रूप देने का पवित्र प्रयास करने के लिये चार पीठों की स्थापना की थी। इसके अनुसार चार शंकराचार्य होना चाहिये पर देखा जा रहा है कि येनकेन प्रकरेण अनेक लोग स्वघोषित रूप से शंकराचार्य बन बैठे हैं। उसके बाद अनेक महामंडलेश्वर भी दिखाई देते हैं।  इनमें से अनेक लोग धर्म के रूप को व्यापक तथा कर्मकांडों के गूढ़ अर्थ बताते हुए अपनी विद्वता समाज में प्रमाणित करने का ऐसा प्रयास करते हैं जिसे सामान्य व्यक्ति सहजता से चुनौती नहीं दे सकता।
            अगर हम अपने अध्यात्मिक ग्रंथों का स्वयं अध्ययन करें तो यह स्पष्ट हो जायेगा कि परमात्मा का नाम स्मरण करना ही सबसे बड़़ा यज्ञ है। श्रीमद्भागवत गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने कहा भी है कि यज्ञों में मैं जप यज्ञ हूं  उन्होंने ज्ञानी भक्तों से यह अपेक्षा भी की है कि प्रातःकाल वह शुद्ध स्थान पर त्रिस्तरीय आसन बिछाकर प्राणायाम करें ताकि आंतरिक तथा बाह्य शुद्धि हो सके।
मनुस्मृति में कहा गया है कि
-------------
मङ्गलाचारयुक्तः स्वात्प्रयतात्तमजितेन्द्रियः।
जपेच्च जुहुयाच्चैव नित्यमग्निमतन्द्रितः।।
            हिन्दी में भावार्थ-मनुष्य को सदा ही शुभ कार्य करने के लिये तत्पर रहने के साथ ही अपनी इंद्रियों पर नियंत्रण करते हुए मन पवित्र रखना चाहिये। नित्य ही प्रातः आलस्य का त्याग कर परमात्मा के नाम स्मरण से मनुष्य का चित्त पूरे दिन प्रसन्न रहता है।

मङ्गलाचारयुक्तानां नित्यं च प्रयतात्पनाम्।
जपतां जुह्वतां चैव विनिपातो न विद्यते।।

            हिन्दी में भावार्थ-शुभ कर्म करने वाले, नित्य प्रातः बाह्य तथा आंतरिक शुद्धि रखने वाले एवं नित्य जाप होम करने वाले को दैहिक रोग, भौतिक बाधा एवं दैविक उत्पात कष्ट नहीं दे पाते।
            कहने का अभिप्राय यह है कि हमें अगर यह सांसरिक जीवन सहजता से बिताना है तो प्रातःकाल धर्म का जमकर उपयोग करें। सुबह दैहिक शुद्धि के बाद योगासन और प्राणायाम करने के साथ ही गायत्री मंत्र, शांति पाठ तथा ओम शब्द का जाप कर अपनी वैचारिक, शारीरिक तथा मानसिक शुद्धता के साथ ही  सांसरिक जीवन में प्रवेश करें।  जब अपना शरीर, मन, और विचार निर्मल हो जाता है तब हमें किसी दूसरे के ज्ञान मार्ग पर चलने की बाध्यता नहीं रह जाती।  बहुत ही सरल और सहज यह प्रंक्रिया उन लोगों के लिये आसान नहीं है जो अपने ही अंदर ज्ञान प्राप्त कर भक्ति का संकल्प नहीं पाल सकते।  जिनको बाहर से प्रेरणा या उत्साह की आवश्यकता पड़ती है वह कभी प्रातःकाल का उस तरह का उपयोग नहीं करते जैसा कि ज्ञान और योग साधक करते हैं।
            हम यह देख रहे हैं कि जिन लोगों ने प्राचीन ग्रंथों के ज्ञान संदेशों  रट लिया है वह उसका प्रदर्शन केवल अपने भौतिक लाभ के लिये करते हैं। वह ज्ञान देते हैं पर उनको सुनने वाले लोग भी केवल समय पास करने जाते हैं इसलिये समाज पर कोई प्रभाव नहीं दिखता।  देश में भ्रष्टाचार, अपराध तथा आर्थिक अपराध बढ़ रहे हैं उससे तो नहीं लगता कि हमारे समाज की जो मानसिकता पूरी तरह धार्मिक नहीं रह गयी है।  उस पर इतने सारे धर्म ध्वजवाहक चहूं ओर विचर रहे हैं तब यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि आखिर समाज में मानसिक तथा वैचारिक अंतर्द्वंद्व क्यों दिख रहे हैं? देश में स्वास्थ्य का स्तर बहुत नीचे क्यों चल रहा है? तय बात है कि कहीं न कहंी गड़बड़झाला है।  इसका निराकरण तभी संभव है जब लोग धर्म को गूढ़ समझने की बजाय उसके सहज भाव को समझ कर अपने समय का सदुपयोग करते हुए स्वयं ही ज्ञानी बन जायें।         


दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 

No comments:

Post a Comment

अध्यात्मिक पत्रिकाएं

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips