समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका
-------------------------


Tuesday, September 8, 2009

भर्तृहरि शतक-मनुष्य की दो प्रकार की स्थिति (man and his status-bhartrihari niti shatak)

आवासः क्रियतां गंगे पापहारिणी वारिणि।
स्तनद्वये तरुण्या वा मनोहारिणी हारिणी।।
हिंदी में भावार्थ-
मनुष्य या तो पापनाशिनी गंगा के तट पर कुटिया बनाकर रहे या फिर मोतियों की माला धारण किए हृदय में उमंग पैदा करने वाली तरुणियों की संगत करे।
संसारेऽस्मिन्नसारे परिणतितरले द्वे गती पण्डितानां तत्वज्ञानामृताम्भः प्लवललितयां वातु कालः कदाचित्।
नो चेन्मुग्धांनानां स्तनजघनघना भोगसम्भोगिनीनां स्थूलोपस्थस्थलीषु स्थगितकरतलस्पर्शलीलोद्यतानाम्।।
हिंदी में भावार्थ-
इस परिवर्तनशील दुनियां में विद्वानो की दो ही गतियां होती हैं। एक तो वह तत्वज्ञान का अमृत रसपात करें या सुंदर स्त्रियों की संगत करते हुए जीवन के समय का सदुपयोग करे।
वर्तमान संदर्भ में संपादकीय व्याख्या-कुछ आधुनिक विद्वान समलैंगिकता के प्रवर्तक बन रहे हैं। उनका कहना है कि समलैंगिकता कोई बुरी बात नहीं है। हो सकता है कि उनकी राय अपनी जगह सही हो पर हमारा अध्यात्मिक दर्शन कहता है कि विद्वान और समझदार आदमी की दो ही गतियां हैं। एक तो यह कि वह तत्वज्ञान का रस लेकर जीवन व्यतीत करे और दृष्टा बनकर इस संसार की गतिविधियों में शामिल होे। दूसरा यह है कि वह सुंदर स्त्री ं के साथ आनंद जीवन व्यतीत करे। यही बात हम स्त्रियेां के बारे में भी कह सकते हैं। जो लोग दावा करते हैं कि वह अधिक शिक्षित हैं और उन्हें पुरानी पंरपरायें बांध नहीं सकती हैं उन्हें यह बात समझ लेना चाहिये कि समलैंगिकता कोई प्राकृतिक संबंध नहीं है। अरे, मनुष्य तो सभी जीवों में समझदार माना जाता है फिर भी वह ऐसे नियमों पर कैसे चल सकता है जिस पर पशु पक्षी भी नहीं चलते।
कभी आप अपने घर में देखें तो अनेक बार चिड़िया और चिड़ा जोड़े के के रूप में साथ आकर अपने लिये तिनके लाते हुए घर बनाते हैं कभी दो चिड़े या दो चिड़िया अपना युगल बनाकर यह काम नहीं करते। अगर हम कहें कि प्राकृतिक के सबसे अधिक निकट भारतीय अध्यात्मिक ज्ञान हैं और इसलिये इसे यह देश विश्व में अध्यात्मिक गुरु माना जाता है तो गलत नहीं है। प्राचीन भारतीय साहित्य में जिस कार्य का उल्लेख तक नहीं है उसे प्राकृतिक तो माना ही नहीं जा सकता। यहां मनुष्य के लिये दो ही गतियां हैं एक तो यह कि वह तत्वज्ञान का रस पान करे या विपरीत लिंग वाले मनुष्य के साथ रास लीला।
................................
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की शब्दयोग सारथी-पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
संकलक एवं संपादक-दीपक भारतदीप

No comments:

Post a Comment

अध्यात्मिक पत्रिकाएं

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips